DA Image
20 जनवरी, 2021|8:41|IST

अगली स्टोरी

लोहागाड़ा पंचायत भवन हुआ जर्जर, 26 जनवरी व 15 अगस्त को खुलता है ताला

default image

दिघलबैंक। एक संवाददाता

जहां एक तरफ सरकार पंचायत के सारे काम एक ही छत के नीचे कराने को लेकर प्रखंड के कई पंचायतों में करोड़ों की लागत से मॉडल पंचायत भवन बनवा चुकी है और कई पंचायतों में ऐसे माडल पंचायत भवनों का काम चल रहा है। वहीं दूसरी ओर प्रखंड क्षेत्र में भारत नेपाल सीमा से सटे लोहागढ़ा पंचायत के तालगाछ में स्थित एक ऐसा पंचायत भवन भी है जो पिछले करीब एक दशक से मरम्मति नहीं होने के कारण पूरी तरह जर्जर हो चुका है। जीर्णशीर्ण स्थिति में अपने बेबसी का रोना रो रहा है। फिलहाल यह पंचायत भवन एक खंडहरनुमा भवन में तब्दील हो चुका है। यहां पर केवल वर्ष में दो बार पंद्रह अगस्त और छब्बीस जनवरी को झंडोत्तोलन के लिए कुछ लोग जमा होते हैं और उस वक्त पंचायत भवन के इस बेवशी पर थोड़ी बहुत चर्चा कर एक बार फिर अपने अपने गंतव्य पर चले जाते हैं। यही कारण है कि जब तालगाछ स्थित लोहगढ़ा पंचायत भवन को लेकर वहां के स्थानीय लोगों उमेश यादव, बिनोद यादव,शिवनारायण यादव, मनोज कुमार सिंह, श्याम कुमार आदि लोगों से बात की गई तो लोगों ने बताया कि पंचायत भवन में स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस को छोड़कर किसी भी अन्य कार्य दिवस में कोई भी जनप्रतिनिधि या पंचायत कर्मी देखने को नहीं मिलते और करीब एक दशक से यह पंचायत भवन कुछ इसी तरह सालों भर बंद पड़ा रहता है। ऐसे में पंचायत के किसी भी काम को लेकर पंचायत वासियों को जनप्रतिनिधियों के घरों का चक्कर लगाना पड़ता है। यही नहीं पंचायत भवन से सटे उप स्वास्थ्य केंद्र तालगाछ और आगनबाड़ी केंद्र संख्या 12 का हाल भी कुछ इसी तरह है और इन संस्थानों के भवन भी पूरी तरह खंडहर में तब्दील दिखते हैं। ऐसे में पंचायत के लोग इसके लिए प्रशासन और स्थानीय जनप्रतिनिधि दोनों को दोषी मानते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Lohagada Panchayat Bhawan becomes dilapidated the lock opens on 26 January and 15 August