DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  रेल रैक प्वांइट पर संसाधनों का घोर अभाव

कोसीरेल रैक प्वांइट पर संसाधनों का घोर अभाव

हिन्दुस्तान टीम,कोसीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 05:20 AM
रेल रैक प्वांइट पर संसाधनों का घोर अभाव

किशनगंज। संवाददाता

किशनगंज रेलवे स्टेशन परिसर में रेलवे रैक प्वांइट से रेलवे को करोड़ों रुपये का राजस्व प्राप्त होता है। लेकिन रेल रैक प्वाइंट पर मजदूरों केव सामान अनलोड के लिए संसाधन की कमी है। मजदूरों के लिए शौचालय, पेयजल सहित कई बुनियादी सुविधाओं की कमी है। शहर के कई व्यवसायी ने बताया कि यहां रैक पॉइंट पर पूरा शेड का भी अभाव है। अत्यधिक वर्षा हो जाये तो रैक प्वांइट से सामान अनलोड करने में कुछ सामान भींग कर खराब भी हो जाता है। सामान रखने के लिए जो घेरा बना है वो पर्याप्त नहीं है। वर्षा के दिनों में तेज हवा चलने लगे तो पानी से सामान के बर्बाद होने की चिंता रेलवे ठीकेदार व व्यापारी को बनी रहती है। व्यापारी व रेलवे के ठीकेदारों की माने तो यह समस्या कई वर्षों से है। इसे लेकर कोई खुल कर आगे आना नहीं चाहता है। जिस कारण व्यवस्था पहले की तरह ही चल रही है। ऊपर से रेलवे के नियमों के मुताबिक रैक पॉइंट पर सामान आने के बाद सामान को मालगाड़ी के डब्बे से नीचे उतारे जाने तक ही रेलवे की जिम्मेदारी रहती है। सामान को नीचे उतारे जाने के बाद 24 घंटे तक ही सामान को वहां रखा जाना है। इसके बाद सामान नहीं उठाने पर पेनाल्टी का भी प्रावधान है।

शहर के कई व्यापारी की माने तो अगर सामान 12 बजे रात को आ जाये तो ऐसी स्थिति में मजदूरों का मिलना भी मुश्किल हो जाता है। वर्षा के दिनों में कई बार मजदूरों को भींग कर भी सामान को ट्रकों में लोड करना पड़ता है। अत्यधिक वर्षा हुई तो सामान वही रहकर कुछ बोरियां भींग जाती है। इसके बाद वर्षा छूटने के बाद अनलोडिंग का कार्य शुरू होता है। ट्रक ऑनर एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष सह व्यवसायी राजेश गुप्ता ने कहा कि रेल रैक पॉइंट पर 24 घंटे ही माल रखने का प्रावधान है। इसके बाद जुर्माना लगाने की बात कही जाती है। किशनगंज बड़े महानगरों जैसा शहर नहीं है यहां अगर रात के 12 बजे गाड़ी आ जाये तो उस समय मजदूर मिलना संभव नहीं है। वर्षा के दिनों में तो ठेकेदारों के मजदूरों को और परेशानी झेलनी पड़ती है। समान रखने की अवधि को 24 घंटे से बढ़ाकर 48 घंटे करना चाहिये। रेल रैक प्वांइट पर मजदूरों के लिए अलग से संसाधनों की व्यवस्था करनी चाहिए।

फोटो 31 मई केगंज 11 : किशनगंज रेलवे स्टेशन

संबंधित खबरें