DA Image
15 जुलाई, 2020|2:26|IST

अगली स्टोरी

‘मजदूरों को उनके हुनर के अनुरूप दें प्रशिक्षण

default image

सूबे के कृषि मंत्री डा. प्रेम कुमार ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बिहार कृषि विश्वविद्यालय सहित उनके अधीन आनेवाले सभी कृषि विज्ञान केंद्रों, कृषि महाविद्यालयों एवं कृषि अनुसंधान केंद्र की समीक्षा की। कृषि विज्ञान केंद्र, किशनगंज के वरीय वैज्ञानिक सह प्रधान ई. मनोज कुमार राय ने यह जानकारी देते बताया कि कृषि मंत्री द्वारा लॉक डाउन अवधि में कृषि तकनीकों व कृषि कार्यों में बरतने वाली सावधानियों को किसानों तक पहुंचाने के लिए विभिन्न कृषि विज्ञान केंद्रों द्वारा अपनाए जा रहे संचार तकनीकों जैसे व्हाट्स एप ग्रुप, सामुदायिक रेडियो, फोन कॉल्स, समाचार पत्र आदि के उपयोग की भी सराहना की। उन्होंने सभी कृषि विज्ञान केंद्रों को प्रवासी मजदूरों के लिए उनके जरुरत एवं हुनर के अनुरुप प्रशिक्षण एवं अन्य तकनीकी सहयोग देने हेतु कार्य योजना बनाने का निर्देश दिया। इसके अलावा प्रदेश में संभावित रेगिस्तानी टिड्डा दल के आक्रमण से बचाव एवं नियंत्रण हेतु संचार माध्यमों द्वारा किसानों को जागरुक करने का निर्देश दिया। उन्होंने जिले में किसानों द्वारा जलवायु के अनुकूल खेती अपनाने पर भी बल दिया। ताकि किसानों को कम लागत में अधिक लाभ मिल सके। बिहार कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डा. अजय कुमार सिंह ने बताया कि 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस अवसर पर विश्वविद्यालय के अधीन सभी केंद्रों पर अधिक से अधिक पौधरोपण किया जाएगा। कृषि विज्ञान केंद्र के वरीय वैज्ञानिक श्री राय ने बताया कि टिड्डी दल के आक्रमण से बचाव के लिए बिहार सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देश व्हाट्स एप ग्रुप एवं मोबाइल द्वारा अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने का काम किया जा रहा है।

इन्होंने बताया कि यह टिड्डी दल प्राय: शाम छह से आठ बजे के बीच पहुंचकर जमीन पर बैठ जाते हैं और रात में फसल को तहस नहस कर देते हैं। इनको किसान सामूहिक रुप से टिन पीटकर, पटाखा चलाकर, ढ़ोल या नगाड़ा बजाकर खेतों से भगा सकते हैं। इसके अतिरिक्त टिड्डी के नियंत्रण के लिए क्लोरपाइरीफास 20 प्रतिशत ईसी 12 लीटर प्रति हेक्टर अथवा बेनडियोकार्ब 80 प्रतिशत 125 ग्राम प्रति हेक्टेयर अथवा डेल्टामेथिन 2.8 प्रतिशत ईसी 450 मिली प्रति हेक्टर की दर से छिड़काव किया जा सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: 39 Training the workers according to their skills