ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार किशनगंजगांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट लगाने का काम अब तक अधूरा

गांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट लगाने का काम अब तक अधूरा

किशनगंज। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि, मयंक प्रकाश गांवों की गलियों को रौशन करने के लिए...

गांवों में सोलर स्ट्रीट लाइट लगाने का काम अब तक अधूरा
default image
हिन्दुस्तान टीम,किशनगंजSun, 16 Jun 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

किशनगंज। हिन्दुस्तान प्रतिनिधि, मयंक प्रकाश
गांवों की गलियों को रौशन करने के लिए मुख्यमंत्री के द्वारा लाई गयी सोलर स्ट्रीट लाइट योजना की रफ्तार जिले में अब तक धीमी है। एजेंसी के एकरारनामा के करीब दो सालों बाद भी सभी सात प्रखंड के 125 पंचायतों में लाइट लगाने का काम पूरा नहीं हो पाया है। एजेंसी की लापरवाही के कारण अब तक इस योजना में 50 फीसदी लाइट लगाने का ही पूरा हो पाया है। काम की सुस्त रफ्तार देखकर लग रहा है कि जिले के 125 पंचायत में से बचे 47 पंचायत में लाइट लगाने में कम से कम छह महीना न लग जाए ? जिले के 125 पंचायत में से 1758 वार्ड को रौशन करना है। लेकिन अब तक 78 पंचायत में ही लाइट का अधिष्ठापन हो सका है। जिले में दो एजेसिंयों एक जीईआईई सोलर प्रोडक्ट्स इंडिया प्रा.लि. व दूसरा ब्रिज एंड रुफ कंपनी लि. के साथ 8 अक्टूबर 2022 को ही इकरारनामा किया गया। जिसमें जीईआईई एजेंसी को चार प्रखंड किशनगंज, कोचाधामन, टेढ़ागाछ, दिघलबैंक व दूसरा ब्रिज एंड रुफ कंपनी लि. को पोठिया, बहादुरगंज व ठाकुरगंज का जिम्मा दिया गया है। दोनों कंपनियों द्वारा अब तक सिर्फ किशनगंज, पोठिया, बहादुरगंज में ही लाइट लगाया गया है। ठाकुरगंज व टेढ़ागाछ में काम चल रहा है। जबकि कोचाधामन व दिघलबैंक में अब तक काम शुरु भी नहीं हुआ है। जिला पंचायती राज पदाधिकारी जफर आलम ने बताया कि जिले में अब तक 78 पंचायत में 2660 लाइट का ही अधिष्ठापन हो सका है। जिसमें पोठिया के 22 पंचायत में 880, बहादुरगंज के 19 पंचायत में 760, ठाकुरगंज के 5 पंचायत में 200, किशनगंज के 10 पंचायत में 400, टेढ़ागाछ के 12 पंचायत में 420 लाइट लग चुका है। जबकि 1758 वार्ड में 17580 लाइट लगना है। कोचाधामन में 40 लाइट लग चुका है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जब पिछले साल कोचाधामन के डेरामारी में अल्पसंख्यक विद्यालय सह छात्रावास व पंचायत सरकार भवन का उद्घाटन करने पहुंचे थे। उस वक्त 40 लाइट लगाया गया था। उसके बाद एक भी लाइट नहीं लगा है। कोचाधामन व दिघलबैंक में लाइट लगाने का काम अब शुरु होगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।