ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार किशनगंजमासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बहुत जरूरी

मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बहुत जरूरी

मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बहुत जरूरी किशनगंज, एक प्रतिनिधि । मासिक धर्म...

मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बहुत जरूरी
हिन्दुस्तान टीम,किशनगंजTue, 28 May 2024 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

मासिक धर्म के दौरान स्वच्छता बहुत जरूरी
किशनगंज, एक प्रतिनिधि । मासिक धर्म का होना कोई अपराध नहीं है और इस दौरान हीन भावना से ग्रसित होने की भी आवश्यकता नहीं है। सदियों से समाज में बैठी हुई भ्रांतियों को मिटाने की जिम्मेदारी आज के युवाओं पर है, ताकि भविष्य सुरक्षित हो सके, माहवारी स्वच्छता से ही कल का भविष्य स्वस्थ और सुरक्षित हो सकता है। उक्त बातें विश्व माहवारी स्वच्छता दिवस पर मंगलवार को बालिका उच्च विद्यालय किशनगंज में आयोजित कार्यक्रम में ज़िला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा .देवेंद्र कुमार ने कही।

विश्व महामारी स्वछता विवस के मौके पर विद्यालय परिसर में छात्राओं को जागरूक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें पोस्टर प्रतियोगिता, रैली और सेमिनार शामिल है। इसका उद्देश्य विद्यालय की छात्राओं को माहवारी स्वच्छता के विषय पर जागरूक किया गया। कहा कि सामान्य प्राकृतिक प्रक्रिया पर किसी भी तरह का अंधविश्वास अथवा झिझक रखने की जरूरत नहीं है, उन्होंने इस विषय पर खुल कर बात करने पर बल दिया। इस दौरान कार्यक्रम का संचालन कर रहे निशांत कुमार ने बताया कि माहवारी के दौरान स्वच्छता नहीं रखने से कई तरह की बीमारी और समस्या होने की आशंका बनी रहती है। वही पोस्टर प्रीतियोगिता में 40 छात्राओं ने भाग लिया, जिसमें टॉप 4 छात्रा को सर्टिफिकेट दे कर सम्मानित किया गया। जिसमे निशा कुमारी प्रथम,पायल कुमारी द्वितीय और शीतल तिवारी और प्रियंका शैल संयुक्त रूप से तृतीय स्थान पर रही स्वाथ्य विभाग के डीसीएम, पीरामल फाउंडेशन के अश्वनी कुमार , स्कूल की प्राचार्य सुनीता कुमारी ने संयुक्त रूप से सभी को सम्मानित किया।

क्यों मनाया जाता है मासिक धर्म स्वच्छता दिवस

सिविल सर्जन डॉ. राजेश कुमार ने कहा कि इस वर्ष मासिक धर्म स्वच्छता दिवस की थीम है: टुगेदर फॉर ए पीरियडफ्रेंडलीवर्ल्ड। कहा कि मासिक धर्म स्वास्थ्य व स्वच्छता महिलाओं व किशोरियों के सेहतमंद जिंदगी व महिला सशक्तीकरण के महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। शिक्षा एवं जागरूकता की कमी, पारंपरिक सोच व गलत धारणाओं के साथ-साथ स्वच्छता संबंधी बुनियादी इंतजामों का अभाव आज महिला व किशोरियों के शिक्षा, सेहत व सामाजिक स्थिति को गंभीर रूप से प्रभावित कर रहा है। मासिक धर्म के प्रति चुप्पी तोड़ने, इसके प्रति जागरूकता बढ़ाने की जरूरत है।

व नकारात्मक सामाजिक मानदंडों में बदलाव के उद्देश्य से हर साल 28 मई को माहवारी स्वच्छता दिवस के रूप में मनाया जाता है।फोटो 27 मई केगंज :मासिक धर्म स्वास्थ्य व स्वच्छता दिवस पर जागरूक करते छात्राएं

महिला और छात्राओं को किया गया जागरूक

ठाकुरगंज। विश्व माहवारी दिवस के अवसर पर मंगलवार को प्रोजेक्ट कन्या उच्च वद्यिालय में छात्राओं के बीच फल्मि के माध्यम से वद्यिालय में पढ़ रही छात्राओं को माहवारी संबंधी वस्तिृत जानकारी दी गई। वद्यिालय की छात्राओं को बताया गया कि मासिक एक सामान्य प्रक्रिया है । जो लड़की के सही विकास का चन्हि है। मासिक के दौरान आहार ,आराम व दर्द से राहत के लिए संतुलित भोजन करना चाहिए । जिसमें फल सब्जियां, दालें ,दुध इत्यादि काफी मात्रा में हो । कार्यक्रम के माध्यम से छात्राओं को सही मासिक इंतजाम के पांच तरीके में रोजाना स्नान करना, स्वच्छ

महिलाओं को कई जरूरी जानकारी दी गई

टेढ़ागाछ। टेढ़ागाछ मुख्यालय स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र टेढ़ागाछ में विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस का आयोजन किया गया। मंगलवार को चिकत्सिा प्रभारी प्रमोद कुमार , बदरून निशां एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान महिलाओं को मासिक धर्म के समय ध्यान रखने वाली विभन्नि बातों पर चर्चा की गई। वहीं टेढ़ागाछ चिकत्सिा प्रभारी प्रमोद कुमार ने बताया कि दुनिया भर में हर वर्ष 28 मई को वश्वि मासिक धर्म स्वच्छता दिवस के रूप में मनाया जाता है। कार्यक्रम में महिलाओ को पीरियड्स के दौरान साफ सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। ता पर ध्यान देना, सेनेटरी नैपकिन का इस्तेमाल करने आदि की सलाह दी गई।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।