DA Image
17 जनवरी, 2021|6:47|IST

अगली स्टोरी

भू माफिया के चंगुल में फंसा है किसानों का जमीन

default image

खगड़िया। नगर संवाददाता

किसानों के जमीनों को सरकारी जमीन बताकर उसके उपयोग अथवा बिक्रगी पर र७ोक लगाया जा रहा है। इसके कारण भूमाफियों का मन दिन व दिन बढ़ता जा रहा है। किसानों को अपने जमीन पर से मालिकाना हक घट रहा है। इसका विरोध जारी रहेगा। यह बातें किसान संघर्ष समिति द्वारा आयोजित धरना के दौरान अपने संबोधन में समिति के विप्लव रंधीर ने कही। इधर समिति के सदस्यों का आरोप है कि जानबूझकर इन जमीनों की जांच के बदले भूमि विवाद बताकर पल्ला झाड़ा जा रहा है। वहीं विवेक भगत ने कहा कि जिले में एक मजिस्ट्रेट व टास्क फ८ोर्स कागठन किया जाय। जिससे जमीनों पर अवैध रूप से कब्जा करने वालों पर कार्रवई की जा सके। वहीं जमीन पर अवैध कब्जा करने वालों पर जांच कर कार्रवाई की जाय। जबकि गैर मजरूआ आम खास के नाम पर रोक लगाए गए जमाबंदी पर से रोक हटाते हुए मालगुजारी रसीद निर्गत करने का आदेश जारी किया जाय। वहीं बिहार दाखिल खारिज अधिनियम की धारा नौ के दुरूपयोग पर रोक लगाई जाय। वहीं दीपक सिन्हा ने कहा कि किसानों के समस्याओं को लेकर समिति द्वारा चरणबद्ध आंदोलन किया जाएगा। जिससे आने वाले दिनों में किसानों की समस्याओं को दूर किया जा सके। इस दौरान राजीव प्रसाद, हर्षवर्द्धन, अभय कुमार सिन्हा, संजीव कुमार सिंह, विवेक प्रियदर्शी, चिन्मय उर्फ चुन्नू बाबू, अरूण कुमार मिश्रा, बिपिन कुमार मिश्रा आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The land of farmers is trapped in the clutches of the land mafia