DA Image
29 सितम्बर, 2020|5:19|IST

अगली स्टोरी

मांगें पूरी होने पर ही टूटेगी हड़ताल

default image

राज्यव्यापी कार्यक्रम के तहत जिले के सभी किसान सलाहकार सोमवार से सामूहिक हड़ताल पर चले गए।

किसान सलाहकार ने संयुक्त कृषि भवन परिसर में एकजुट होकर मांगों के समर्थन में जमकर सरकार के विरोध में नारे लगाए। इधर सामूहिक हड़ताल के पहले दिन संयुक्त कृषि भवन परिसर में उपस्थित सलाहकारों को संबोधित करते संघ के जिलाध्यक्ष नागमणि वर्मा ने कहा कि कृषि विभाग के योजनाओं के क्रियान्वयन में उनलोगों की अहम भूमिका है। लेकिन उनलोगों क ी उपेक्षा की जा रही है।

कहा कि सरकार की एप्प आधारित सभी कार्य का निष्पादन सबसे पहले वे लोग करते हैं। उनलोगों ने मांग किया किया कि उन्हें तकनीकी कर्मी माना जाय। मांग पूरी होने तक विरोध जारी रहेगा। वहीं त्रिस्तरीय क मेटी द्वारा दिए गए मंत्व्य क ो भी जल्द से जल्द लागू करने की मांग की। उन्होंने कहा कि सरकार के गलत नीति के कारण सलाहकार उपेक्षित हैं। सूबे के सुपौल के किसान सलाहकार राजेन्द्र मेहता कैमूर के नीरज कुमार आर्थिक तंगी व तनाव के कारण असामयिक मौत के शिकार हो गए। इस दौरान कर्मी संजीव कुमार, अभय कुमार, नीलकमल, कुंदन, धीरेन्द्र, अमरजीत कुमार, राकेश कुमार, सोनू कुमार, अभय कुमार, सर्वेश कुमार आदि भी मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Strike will break only after demands are met