DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अस्पताल में गंदगी देखकर बिफरे एसडीओ

गोगरी रेफरल अस्पताल के निरीक्षण के दौरान बुधवार को सदर एसडीओ ने अस्पताल परिसर में साफ-सफाई संतोषजनक नहीं पाया। वहीं इंडोर में भी सफाई संतोषजनक नहीं पाया गया। जिसपर उन्होंने नाराजगी जताई। अस्पताल में समुचित साफ-सफाई नहीं पाए जाने पर एसडीओ ने एनजीओ ज्ञान भारती शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान, पटना का गोगरी अस्पताल के लिए अनुबंध रद्द करने की अनुशंसा की।

जांच के दौरान लिपिक ओमप्रकाश सिंह गत आठ मई से ही अनुपस्थित पाए गए। वहीं गोगरी में पदस्थापित डॉ. शोभारानी पर रोगी को बहला फुसला कर अस्पताल के सामने अपने निजी क्लिनिक में इलाज करती है। इससे रोगियों के आर्थिक शोषण का मामला सामने आया है। साक्ष्य के तौर पर रोगी शहजादी खातून अस्पताल इलाज के लिए आई थी लेकिन डॉक्टर द्वारा अपने क्लिनिक में इलाज किया। इस पर डॉ शोभा रानी पर कार्रवाई की अनुशंसा एसडीओ ने की।

गोगरी रेफरल अस्पताल का निरीक्षण: बुधवार को एसडीओ सुभाष चन्द्र मंडल े रेफरल अस्पताल पहुंच कर अस्पताल की जांच की। जांच में उपस्थिति पंजी का अवलोकन किया। इस दौरान एसडीओ ने स्वास्थ्य कर्मियों व चिकित्सकों से समस्या को भी जाना। एसडीओ ने अस्पताल में साफ-सफाई की व्यवस्था, मरीजांे को मिलने वाली दवाई की उपलब्ता की अद्यतन स्थिति को जाना। आउटडोर पहुंचकर मरीजों से भी पूछताछ की।

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. चन्द्र प्रकाश से अस्पताल में चलाए जा रहे विभिन्न सरकारी योजनाओं की जानकारी के लिए योजना के प्रगति रिपोर्ट का अवलोकन किया। एसडीओ नें प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को निर्देश दिया कि अस्पताल में ईलाज को पहुंचने वाले मरीजांे को सरकार की हर सुविधा उपलब्ध कराएं। निरीक्षण के दौरान स्थानीय लोगों ने चिकित्सक डा. शोभा रानी पर अस्पताल के मरीजांे को अपने निजी क्लिनिक ले जाने के लिए प्रेरित करने का आरोप लगाया। मौके पर डॉ. अरूण कुमार सिन्हा, डा. सुभाष चन्द्र बैठा, डॉ. विकास कुमार, डा. शोभा रानी, अस्पताल प्रबंधक विजय कुमार सिन्हा के अलावा कई अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: SDO got angrey after seeing dirt in hospital