DA Image
12 अगस्त, 2020|12:38|IST

अगली स्टोरी

जिले की सीमा पर आ रहे हैं सैकड़ों मजदूर

default image

दूसरे प्रदेशों में कमाई के लिए गए मजदूरों के लिए यह कमाई मानों आफत का जरिया बन गया। लॉकडाउन के बाद से कमाई के पैसा खत्म होने के साथ ही मजदूरों का अपने घर आने का सिलसिला जारी है।

मजदूरों को घर व प्रदेश की दूरी भी इनदिनों कम प्रतीत हो रही है। मजदूरों के घर जाने की ललक को देखकर ऐसा प्रतीत होता है कि वह कितनी जल्दी अपने घर पहुंचे और परिवार से मिले। गुरुवार की शाम उत्तरप्रदेश के आजमगढ़ व बनारस से कटिहार स्थित अपने गांव जाने के लिए भीड़ जुटी थी। कटिहार जिले के रतवार थाना क्षेत्र के संझौली गांव के आकाली ऋषि, डब्लू ऋषि आदि ने बताया कि एक माह से वे लोग अपना जिंदगी किसी तरह से गुजार रहे थे। वहां वे लोग तालाब बनाने का काम करते थे। जब लॉकडाउन हुआ तो वे लोग वहां बेरोजगार होकर बैठ गए। कुछ दिनों तक तो ठेकेदार ने खाना खिलाया, लेकिन इसके बाद वे लोग भी हाथ उठाना शुरू कर दिया। घर वापस जाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया।

उनलोगों ने किसी तरह से आपस में विचार कर साइकिल व पैदल चलना ही घर की ओर शुरू किया । लगभग एक सप्ताह के यात्रा पूरा करने के बाद वे लोग खगड़िया पहुंचे हैं। कहा कि चलने के समय सिर्फ ठेकेदारों ने उनलोगों को पांच-पांच सौ रुपए दिए। वह खत्म हो चुका है। रास्ते में प्रशासनिक स्तर पर मिलने वाले भोजन के सहारे चल रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hundreds of laborers are coming to the border of the district