अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मॉडल शहर का नहीं हो रहा सपना साकार

मॉडल शहर का नहीं हो रहा सपना साकार

खगड़िया को मॉडल शहर बनाने का सपना साकार नहीं हो पा रहा है। सुंदर व स्वच्छ खगड़िया शहर बनाने में सबसे बड़ी बाधा अतिक्रमण है। शहर की सड़कों पर फुटकर दुकानदारों का कब्जा है। लोग यत्र-तत्र सड़क किनारे अपनी बाइक व अन्य लग्जरी गाड़ियां पार्क कर बाजार में खरीदारी करते हैं। ऐसे में एक मॉडल शहर बनाने को लेकर सबसे पहले शहर को अतिक्रमणमुक्त करना बड़ी चुनौती है। वहीं शहर में पार्किंग स्थल का भी अभाव है।

शहर की सड़कें कम चौड़ी होने व इसके बाद भी सड़क किनारे बाइक खड़ी करने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा टैक्स देने के बावजूद भी लोगों को शहर में सही सुविधाएं नहंी मिल पा रही है। यानि हर घर व्यक्ति को शुद्ध पेयजल की आपूर्ति करना विभाग के लिए सबसे बड़ी चुनौती बनी हुई है।

कहां-कहां है परेशानी : शहर के राजेन्द्र चौक, स्टेशन रोड व मालगोदाम रोड में सर्वाधिक परेशानी लोगों को आवागामन की होती है। क्योंकि इस सड़क पर फुटकर विक्रेताओं का कब्जा रहता है। सड़क किनारे दुकान लगाए जाने के कारण चौड़ी सड़क भी इतनी संकरी हो जाती है कि गाड़ियां तो रेंगती ही है पैदल चलना भी मुश्किल हो जाता है। इसके अलावा राजेन्द्र चौक के निकट भी ई रिक्सा व टेम्पो द्वारा रोककर पैसेंजर को लादने से लोगों को परेशानी होती है।

बेंजामिन चौक बना रहता है अवैध स्टैण्ड : अक्सर देखा गया है कि टेम्पो चालकों द्वारा बेंजामिन चौक से सवारी गाड़ियां पर धड़ल्ले से यात्रियों को बिठाया जाता है। अक्सर बेंजामिन चौक से एमजी मार्ग के निकट जाने वाली सड़क में जाम की स्थिति बनी रहती है।

शुद्ध पेयजल की समस्या से परेशान हैं लोग : शहर में पीएचईडी द्वारा जलापूर्ति योजना भी खटाई में पड़ी हुई है। हालांकि सात निश्चय योजना के तहत हर घर नल का जल योजना के तहत कार्य कराया जाना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Dream of model city is not happening true