DA Image
28 नवंबर, 2020|7:18|IST

अगली स्टोरी

पेंडिंग रिजल्ट को सुधारने के लिए भटक रहे छात्र

default image

पीजी सत्र 16-18 के पेंडिग छात्र छात्राएं बीएनएमयू के सौतेले व्यवहार के शिकार हैं। इंटर जिला टॉपर रहा छात्र सहित अन्य छात्र छात्राएं पेंडिग रिजल्ट को सुधार के लिए यत्र तत्र भटकने को मजबूर हैं। पीजी में कुल मार्क्स जोड़कर अंकपत्र के लिए दिये आवेदन के कई माह बीतने के बाद भी सुधि नहीं लेने से उत्तीर्ण छात्र छात्राएं सरकारी नौकरी में आवेदन करने से वंचित हो रहे हैं।

कहीं आवेदन के रुप में खर्च किये गये राशि के बाद भी पीजी के मार्क्स शीट के अभाव में आवेदन रिजेक्ट होने से आर्थिक रुप से कमजोर हो रहे हेैं। इंटर जिला टॉपर रहा छात्र अभिषेक कुमार व्यवस्था में सुधार नहीं होने से परेशान हैं। छात्र अभिषेक कुमार एवं अजीत कुमार का कहना है कि वे डीएस कॉलेज के गणित संकाय से पीजी चतुर्थ सेमेस्टर में परीक्षा देने के बाद भी उनलोगों का रिजल्ट पेंडिग कर दिये जाने से 11 नवम्बर को प्राध्यापक के लिए निकाली गयी रिक्ति को आवेदन करने से वंचित हो जायेंगे। अभिषेक ने बताया कि मैट्रिक 2011 में 75.8 प्रतिशत से उत्तीर्ण होने के बाद इंटर में 73 प्रतिशत से अधिक अंक लाकर जिला टॉपर बनने का गौरव हासिल हुआ। डीएस कॉलेज मेें स्नातक गणित विषय से प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण करने के बाद पीजी सत्र 16-18 में नामांकन कराया। जहां प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा अक्टूबर 18 में 7.5जीपीए, द्वितीय सेमेस्टर सेमेस्टर की परीक्षा अप्रैल 19 में भी 7.5 जीपीए व थर्ड सेमेस्टर की परीक्षा सितम्बर 19 में 8.5 जीपीए अंक लाने के बाद चतुर्थ सेमेस्टर का रिजल्ट जनवरी 2020 में निकलने के बाद रिजल्ट पेंडिग कर दिया गया। तृतीय सेमेस्टर में दो विषयों की परीक्षा नहीं दिये जाने के कारण पेंडिंग कर दिये जाने के बाद पुन: फरवरी 20 में थर्ड सेमेस्टर का परीक्षा दिये जाने के बाद 8.5जीपीए से उत्तीर्ण करने के बाद फाइनल रिजल्ट 3 मार्च 20 को जारी किया गया। थर्ड सेमेस्टर का रिजल्ट निकलने के बाद भी मार्क्स को नहीं जोड़ने के कारण पेंडिग कर दिये जाने से परेशान हैं। उन्होंने बताया कि इसके लिए महाविद्यालय से लेकर विश्वविद्यालय तक चक्कर लगाने के बाद भी सुधार नहीं होने से आगे की पठन पाठन से लेकर नौकरी में आवेदन करने में परेशानी हो रही है।

बोले परीक्षा नियंत्रक: इस बावत बीएनएमयू के परीक्षा नियंत्रक डॉ नवीन कुमार ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में है। लेकिन टेबलटेर के नहंी आने के कारण छात्रों का मार्क्स एकत्रित नहीं किये जाने से परेशानी बनी हुई है। उन्होंने बताया कि कोरोना काल के रहने के कारण इतने दिनों से समस्या बनी हुई है। इसके लिए उन्होंने बताया कि जल्द ही पेंडिंग रिजल्ट को जोड़ कर फाइनल रिजल्ट दे दिया जायेगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Students wandering to improve the pending result