One and half hour patients were worried for treatment - डेढ़ घंटे इलाज के लिए परेशान रहे रोगी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डेढ़ घंटे इलाज के लिए परेशान रहे रोगी

default image

शनिवार को सदर अस्पताल में ओपीडी के समय सर्जिकल कक्ष में डॉक्टर नहीं थे। इससे रोगियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़़ा। सुमन देवी, राजेश कुमार, अमृत कुमार, रेशमा खातून आदि ने बताया कि वे लोग सुबह आठ बजे ही सदर अस्पताल इलाज के लिए पहुंचे थे।

निबंधन काउंटर पर पर्ची कटाने के बाद इलाज कराने के लिए सर्जिकल कक्ष के सामने खड़े हो गये। 9 बजकर 30 मिनट तक उनके अलावा करीब तीस से ज्यादा लोग डॉक्टर के आने का इंतजार करते रहे लेकिन डॉक्टर नहीं आये। रोगियों ने जब आक्रोश जताने लगे । इसके बाद स्वास्थ्य विभाग हरकत में आये। रोगियों की हो रही परेशानी की सुधि न तो अस्पताल उपाधीक्षक लिये और न ही अस्पताल प्रबंधक ।

सदर अस्पताल में इन दिनों सदर अस्पताल में ओपीडी के समय सुबह हो या शाम डाक्टर के गायब रहने से रोगी परेशान रहते हैं। वहीं डॉक्टर का कहना होता है कि सिविल सर्जन और डीएस के आदेश पर इन्हें कैम्प और शिविर में भेज दिया जाता है। जिस कारण वे अस्पताल समय पर नहीं आते है। भेजने से पहले सिविल सर्जन को वैकल्पिक व्यवस्था करनी चाहिए। सदर अस्पताल में 20 से अधिक चिकित्सा पदाधिकारी कार्यरत है। इसके बाद भी ओपीडी के समय छह डॉक्टरों से ड्यूटी नहीं करा पाते हैं। ऐसा लगता है कि रोगियों की परेशानी से अस्पताल प्रबंधन को कोई मतलब नहीं है।

अस्पताल के उपाधीक्षक डा. आरएन पंडित ने कहा कि सदर अस्पताल के ओपीडी के चार नंबर सर्जिकल कक्ष के डॉक्टर को जांच शिविर में भेज दिया गया है। एक नंबर मेडिसिन के डॉक्टर से ही इलाज कराया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:One and half hour patients were worried for treatment