DA Image
14 जुलाई, 2020|5:49|IST

अगली स्टोरी

कोरोना को लेकर आवाजाही हुई कम

default image

कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए आम लोग ट्रेन, बस से लेकर ऑटो में भी अब यात्रा करने के लिए पहल नहीं कर रहे हैं। शहरवासी बाहर निकलने से परहेज कर रहे हैं। अत्यावश्यक कार्य होने पर ही घर से बाहर निकलते हैं।

इस कारण से सड़क और रेलवे स्टेशनों से भीड़ करीब-करीब नहीं के बराबर लगती है। आरक्षण टिकट पर भी प्रतिदिन रद्द कराने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका इस कदर लोगों के मन में सताने लगा कि यात्रा करने से ज्यादा यात्रा स्थगित कर रहे हैं। एक सप्ताह पूर्व लोग लंबी दूरी की यात्रा करने से परहेज करने लगे थे। अब तो जिले से बाहर जाने से भी कतराने लगे हैं। लोग अपने घर परिवार के लोगों से भी प्रतिदिन सुबह व शाम फोन से बात कर एक दूसरे का स्वास्थ्य संबंधित जानकारी प्राप्त कर रहे हैं। लोगों द्वारा यात्रा स्थगित करने से बस स्टेशन, रेलवे स्टेशनों पर पहले की अपेक्षा वीरानगी छाने लगी है। रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका से लोगों द्वारा रेल यात्रा करने से परहेज किया जा रहा है। सुबह से शाम तक जितने लोग टिकट कटाने नहीं आते हैं। उसके दो गुणा लोग पूर्व में आरक्षित टिकट को रद्द कराने के लिए आ जाते हैं। बुधवार को कटिहार रेलवे स्टेशन पर 47 से 48 हजार रुपये का टिकट दोपहर से पूर्व और दोपहर बाद करीब 40 से 45 हजार कुल एक लाख रुपये का टिकट रिफंड यात्रियों द्वारा कराया गया।