DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  कटिहार  ›  सदर अस्पताल में आधा दर्जन से अधिक स्वास्थ्य सेवाएं बंद

कटिहारसदर अस्पताल में आधा दर्जन से अधिक स्वास्थ्य सेवाएं बंद

हिन्दुस्तान टीम,कटिहारPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 05:20 AM
सदर अस्पताल में आधा दर्जन से अधिक स्वास्थ्य सेवाएं बंद

कटिहार | एक संवाददाता

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के अनदेखी के कारण इन दिनों दिन प्रतिदिन सदर अस्पताल में आम लोगों स्वास्थ्य सेवा छिनता चला जा रहा है। अस्पताल के नए भवन के नाम पर लोगों को उत्साहित कर अधिकारी लोग आम लोगों को मिलने वाली स्वास्थ्य सेवा नहीं मिल पा रही है।

हर दिन स्वास्थ्य सेवा के लिए रोगी इधर से उधर भटकते रहते हैं। रोगियों को समुचित स्वास्थ्य सेवा का लाभ नहीं मिल पाता है। वातानुकूलित चैंबर में कुर्सी पर बैठने वाले अधिकारियों को आम लोगों की समस्या से कोई मतलब नहीं रह गया है। हर दिन कोई ना कोई रोगी सेवा से वंचित होकर निजी अस्पताल या निजी डॉक्टरों के शरण में जाने को विवश है। वहीं कई माह बीतने के बाद भी डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद, स्वास्थ्य मंत्री मंगलवार पांडेय द्वारा फिलिकल शिलान्यास करने के बाद भी अभी तक ना तो अस्पताल का नए भवन का निर्माण कार्य शुरू हो पाया है और ना ही नए पोस्टमार्टम हाउस का ही। ऐसे में लोगों को यह समझ में नहीं आ रहा है कि आखिर स्वास्थ्य विभाग लोगों की परेशानी को कम करने के बजाए बढ़ा क्यों रहा है।

इन सेवाओं का नहीं मिल रहा समुचित लाभ: अस्पताल के नया भवन बनाने के नाम पर सदर अस्पताल में एक दर्जन से अधिक सेवाओं का समुचित लाभ आम रोगियों को नहीं मिल रहा है। पोषण पुनर्वास केंद्र, नशा मुक्ति केंद्र, बर्न वार्ड, कालाजार वार्ड, कैदी वार्ड, आइसोलेशन वार्ड, महिला मेडिकल वार्ड, महिला सर्जिकल वार्ड का समुचित लाभ नहीं मिल रहा है। कहा जाता है कि इन सेवाओं के नाम पर स्वास्थ्य विभाग केवल खानापूर्ति करती है। कागजात पर इलाज तो होता है लेकिन हकीकत में उक्त सेवाओं का लाभ रोगियों को नहीं मिल पा रहा है। सिविल सर्जन डॅा. डीएन पांडेय पदभार लेने के बाद तत्कालीन सीएम नीतीश कुमार द्वारा दी गई स्वीकृति के तहत तीन सौ बेड का अस्पताल के निर्माण को लेकर पुराने ओपीडी का भवन को तोड़ दिया। इससे मेडिसिन,सर्जिकल ,चर्म रोग, बुजुर्ग रोगी, महिला, बच्चा ओपीडी, दवा वितरण कक्ष, पैथोलॉजिकल कक्ष, एड्स रोगियों के लिए काउंसलर कक्ष व जांच घर, निजी एक्सरे कक्ष, बर्न वार्ड, दो लाख की लागत से तैयार किया गया नाइट ड्यूटी करने वाले डॉक्टर का कक्ष, नर्स ड्यूटी रूम, ईसीजी जांच घर, दवा स्टोर घर को तोड़ दिया। जिसमें कई कक्ष वातानुकूलित थे।

संबंधित खबरें