DA Image
14 अगस्त, 2020|8:45|IST

अगली स्टोरी

खतरे के निशान से अभी भी 77 सेंटीमीटर ऊपर बह रही महानंदा नदी

default image

मंगलवार को महानंदा नदी के बढ़ते जलस्तर पर ब्रेक लग गया है। इसके बाद भी नदी का जलस्तर खतरा के निशान से ऊपर बह रही है।

इस कारण से नदी का पानी का दबाव तटबंध और स्पर पर पिछले 48 घंटों से बना हुआ है। दबाव को कम करने के लिए सालमारी बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता सच्चिदानंद साह अपने सहायक और कनीय अभियंता के साथ स्पर संख्या 15 के पास कैंप कर रहे हैं। तटबंध को नदी के पानी के दबाव से बचाने के लिए बने स्टड का कटाव न हो इस पर भी अभियंता चौबीस घंटे निगरानी रख रहे हैं। बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अभियंता ने बताया कि आठ दिनों के बाद महानंदा नदी के जलस्तर में मंगलवार को गिरावट दर्ज की गई है। नदी का जलस्तर 12 घंटों में झौआ और बहरखाल में दो सेमी कम हो गया है। गंगा और बरंडी नदी के जलस्तर में बढ़ने की रफ्तार में गिरावट आई है। जिस रफ्तार से गंगा और बरंडी नदी बढ़ रही थी। वह अब कम हो गया है। इसके विपरित कोसी ने अपना रूख बदल लिया है। मंगलवार को कुरसेला रेलवे ब्रिज के पास कोसी नदी का जलस्तर जून माह में सर्वाधिक वृद्धि 35 सेमी दर्ज किया गया है। काढ़ागोला के बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के सहायक अभियंता अंजनी कुमार की माने तो 15 से लेकर 30 जून तक के बीच बारह घंटे में अबतक एक भी दिन इतना ज्यादा बढ़ोत्तरी कोसी नदी के जलस्तर में नहीं हुई थी। मंगलवार को सर्वाधिक जलस्तर में बढ़ोत्तरी हुई है। उन्होंने कहा कि चिंता का बात नहीं है। विभागीय स्तर पर तैयारी पूरी है साथ ही नदी का जलस्तर अभी चेतावनी स्तर से 140 सेमी नीचे है। लेकिन बढ़ने की रफ्तार इसी प्रकार रहा तो निश्चित रूप से एक सप्ताह के अंदर ही खतरा के घंटी कोसी बजा सकती है। उन्होंने कहा कि कोसी नदी का जलस्तर कुरसेला रेलवे स्टेशन होकर गुजरने वाली कटिहार-बरौनी रेलखंड पर अवस्थित कुरसेला रेलवे ब्रिज के पास 27.75 मीटर से 35 सेमी बढ़कर 28.10 मीटर पर बढ़ना जारी है।

झौआ, बहरखाल व कुर्सेल में घट रहा है महानंदा नदी का जलस्तर :

बाढ़ नियंत्रण कक्ष के अभियंता ने बताया कि बारह घंटों में महानंदा नदी का जलस्तर कदवा प्रखंड के झौआ, बहरखाल और कुर्सेल में घटने लगा है। हालांकि इन तीनों जगहों पर नदी का जलस्तर लाल निशान से 34 से 44 सेमी ऊपर है। नदी का जलस्तर झौआ में 31.86 मी. से दो सेमी घटकर 31.84 मी. खतरे के निशान 31.40 मी. से 44 सेमी पर ऊपर पहुंचकर घट रहा है। बलिया बलौन थाना क्षेत्र के बहरखाल में 31.46 से दो सेमी घटकर 31.43 मीटर पर पहुंच कर खतरा के निशान 31.09 मीटर से 34 सेमी ऊपर पहुंच कर तथा कदवा प्रखड के कुर्सेल में 31.85 मीटर से दो सेमी घटकर 31.83 मीटर पर पहुंच कर खतरा के निशान 31.40 मीटर से 43 सेमी ऊपर पहुंच कर घटने लगा है।

बोले अभियंता

अधीक्षण अभियंता राजेंद्र कुमार मेहता ने बताया कि महानंदा नदी का जलस्तर घटने लगा है। गंगा व बरंडी नदी के जलस्तर में बढ़ने की रफ्तार कम हो गई। केवल कोसी नदी के जलस्तर में तेज गति से बढ़ोत्तरी हो रही है। उन्होंने कहा कि तटबंध और स्पर सुरक्षित है। अभियंता चौकसी बरत रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mahananda river still flowing 77 cm above danger mark