DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बर्निंग ट्रेन बनने से बची इंटरसिटी

बर्निंग ट्रेन बनने से बची इंटरसिटी

शनिवार शाम सिलीगुड़ी-कटिहार इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन द बर्निंग ट्रेन बनने से बाल-बाल बच गयी। समय रहते रेलवे के अधिकारियों ने न केवल उस बोगी से यात्रियों को बाहर निकालने में सफल रहे बल्कि जिस बोगी के नीचला हिस्सा में आग सुलग रहा था, उसे सहित दो बोगियों को ट्रेन से काट कर हटा दिया। इस हादसे में क कोई हताहत नहीं हुआ।

ट्रेन के यात्रियों के अलावा सोनैली स्टेशन के आसपास के लोगों में अफरा-तफरी मची रही वहीं इंटरसिटी एक्सप्रेस एक घंटा 10 मिनट तक स्टेशन पर रूकी रही। इस दौरान ट्रेन में सवार यात्रियों के बीच अफरा तफरी का माहौल रहा। यह ट्रेन शाम 7.50 मिनट से लेकर रात के करीब 9.09 मिनट के बाद कटिहार के लिए रवाना हुई। कटिहार रेल मंडल के डीसीएम अमर मोहन ठाकुर ने कहा कि ट्रेन में आग नहीं लगी थी।

इंटरसिटी के गार्ड के पीछे का एक बोगी के नीचे स्थित एक बैट्री में शॉर्ट सर्किट होने से धुंआ निकलने की सूचना पर एहितयात पर दो बोगियों को ट्रेन से काट कर हटाने के बाद इंटरसिटी एक्सप्रेस को कटिहार के लिए रवाना कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस घटना में किसी भी प्रकार की हताहत नहीं हुई है। उक्त ट्रेन के गार्ड अवधेश कुमार देव ने बताया कि इंटरसीटी एक्सप्रेस ट्रेन में दो एसी-टू-टायर खाली कोच को सिलीगुड़ी में अतिरिक्त बोगी के रूप में जोड़ा गया था। जिस पर कटिहार-सिलीगुड़ी, कामख्या, अलिपुरद्वार तथा लंमडिंग लिखा था। इससे पता चलता है कि उक्त बोगी किसी दूसरे ट्रेन का था। इस बोगी में दो सेना के जवान सवार थे। ट्रेन में सवार एक जवान शक्तिबेल ने सबसे पहले ट्रेन के बहार धुंआ देखा। इसके बाद उन्होंने चेन खींच कर ट्रेन को रोकने का प्रयास करने लगे। तबतक ट्रेन स्टेशन पर पहुंच चुकी थी। जवान ने ट्रेन से उतर कर धुंआ निकलने की जानकारी गार्ड को दिया। गार्ड अवधेश कुमार ने देखा कि गार्ड बॉगी के पीछे का बॉगी के नीचे से धुंआ निकल रहा है।

धुंआ को देखते ही उसने बॉगी में बैठे हुए यात्रियों को डब्बा से नीचे उतरने की सलाह दी तथा घटना की सूचना स्टेशन प्रबंधक को दिया। ट्रेन में सवार सोनैली के मुकेश चौधरी, कटिहार के मुन्ना पांडेय, दालकोला के रवींद्र कुमार साह, बारसोई के जितेंंद्र कुमार ने बताया कि झौआ रेलवे स्टेशन से ट्रेन खुलने के बाद ट्रेन में किसी प्रकार की परेशानी नहीं थी। उन्होंने कहा कि चलती ट्रेन में बैट्री में शॉर्ट सर्किट होता और किसी को पता नहीं चलता तो एक बड़ी हादसा हो सकती थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Intercity left behind becoming Burning Train