DA Image
7 मार्च, 2021|1:45|IST

अगली स्टोरी

लक्ष्य की पूर्ति में बिजली विभाग को ठंड में बहाना पड़ रहा है पसीना

default image

बिजली विभाग को दिये गये राजस्व के लिए लक्ष्य की पूर्ति में बिजली विभाग को ठंड में भी पसीना बहाना पड़ रहा है। प्रति माह 14 करोड़ की लक्ष्य पूर्ति के लिए विभाग ने कदमताल तेज कर दिया है। मालूम हो कि शहरी, ग्रामीण व बारसोई में अवर प्रमंडल के तौर पर स्थापित है। ग्रामीण कटिहार के रुप में 13 सेक्शन में विभाजित है। जिसमें कटिहार ग्रामीण, कोढ़ा, बरारी, समेली, कुरसेला, फलका, मनसाही, मनिहारी, अमदाबाद, प्राणपुर, हसनगंज और डंडखोरा शामिल है। जहां सभी जगहों पर कनीय अभियंता के साथ अन्य कर्मियों की तैनाती की गयी है। जबकि जिले भर में रजिस्टर्ड बिजली उपभोक्ताओं की संख्या 4 लाख 25 हजार है। जबकि शहरी अवर प्रमंडल में मिरचाईबाड़ी व इंडस्ट्रीयल ऐरिया शामिल है। सीएमडी पटना क ा निर्देश लक्ष्य की पूर्ति करना है क ो लेकर विभाग द्वारा कदमताल तेज कर दी गयी है। विभाग की माने तो जिले में135 मेगावट बिजली खर्च की जाती है। ठंड के बढ़ते प्रकोप के कारण इसमें कमी आयी है। 90 मेगावाट होने के बाद भी राजस्व आय की शत प्रतिशत पूर्ति विभाग के लिए जी का जंजाल साबित हो रहा है। मालूम हो कि राजस्व आय ग्यारह से तेरह करोड़ की होती है। जबकि लक्ष्य 14 करोड़ दिया गया है। राजस्व वसूली में कटिहार ग्रामीण प्रतिमाह 3 करोड़, बारसोई अनुमंडल से दो करोड़ एवं टाउन सबसे अधिक छह से सात करोड़ की आय होती है। बारसोई सबडिविजन में बारसोई ,कदवा, आजमनगर, आबादपुर, बलरामपुर एवं सालमारी शामिल प्रखंड है।

लॉकडाउन के कारण बिजली बिलिंग पूरी नहीं हो पा रही थी। विभाग द्वारा 135 मेगावाट बिजली खरीद की जाती है। ठंड के कारण इसकी डिमांड घट कर 90 मेगावाट हो गयी है। राजस्व आय रैंक के मामले में कटिहार नम्बर वन पर है। दिये गये लक्ष्य 14 कराड़ के बदले 12 से 13 करोड़ की पूर्ति होती है। शत प्रतिशत के लिए अभियान चलाकर कार्यों में तेजी लायी गयी है।

- मो अरमान,कार्यपालक अभियंता विद्युत

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Electricity department has to sweat in the cold to meet the goal