DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  कटिहार  ›  धान की नर्सरी लगाने से पहले करें बीजोपचार
कटिहार

धान की नर्सरी लगाने से पहले करें बीजोपचार

हिन्दुस्तान टीम,कटिहारPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:32 AM
धान की नर्सरी लगाने से पहले करें बीजोपचार

कटिहार | हिन्दुस्तान प्रतिनिधि

मानसून के शानदार आगाज से जिले में किसानों की सरगर्मी बढ़ी है। किसान धान का बीज गिराकर खेतों में नर्सरी तैयार करने की कवायद में जुटे हैं। ऐसे में कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों ने किसानों को कई जरुरी परामर्श दिये हैं। कृषि वैज्ञानिक डॉ. रमाकांत सिंह ने बुधवार को बताया कि किसान धान की नर्सरी लगाने से पहले बीजोपचार अवश्य कर लें।

इससे भविष्य में धान के पौधों में बीमारी नहीं होगी। स्वस्थ पौधा से पैदावार बेहतर होगी। उन्होंने बताया कि जो किसान अपने घर का धान बीज गिराने जा रहे हैं वो सर्वप्रथम 10 लीटर पानी में सौ ग्राम नमक घोल लें उसके बाद उस धान को पानी में डूबो दें। हल्के व खराब बीज पानी की सतह पर आ जायेंगे। उसे छानकर फेक दें। बर्तन में नीचे का धान निकालकर उसमें एक किलो बीज पर प्रति दो ग्राम कार्बेन्डाजीम अथवा वैभीस्टीन पाउडर मिला लें उसके बाद बीज को खेतों में गिरायें। उन्होंने बताया कि कृषि विभाग जल्द ही बीजारेपचार के प्रचार के लिए रथ प्रखंडों में रवऋसना कर किसानों को जागरुक करेगा। इधर उम्मीद की जा रही है कि जिले के 50 फीसदी किसान इस शुरुआती मानसून में ही धान बीज गिरा लेंगे। जो किसान 10 जून से पहले धान बीज गिरा रखें हैं वह किसान 30 जून तक रोपनी शुरु कर देंंगे। शुरुआत में किसान उंचे खेतों में अगात और कम दिनों में अधिक पैदावार होनेवाला प्रभेदों की रोपनी करते हैं।

बारिश के कारण बिचड़ा गिराने में परेशानी: जेष्ठ माह में ही लगातार बारिश होने के कारण किसानों को धान का बिचड़ा गिराने में परेशानी हो रही है। थोड़ी बहुत कहीं गिराया भी गया तो बारिश के पानी में बह गया। निचले हिस्से के खेतों में जलजमाव शुरु हो चुका है। किसान गजेन्द्र यादव, राजेश कुमार, रतन कुमार सिंह, प्रमोद कुमार सहित दर्जनों किसानों ने बताया कि बिचड़ा गिराने के लिए अभी खेत तैयार करनार था, लेकिन लगातार बारिश के कारण खेत तैयार नहीं हो पाया है।

संबंधित खबरें