DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बैंकों में लटके रहे ताले एटीएम ने दिया जवाब

बैंकों में लटके रहे ताले एटीएम ने दिया जवाब

यूनाइडेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन के आह्वान पर बुधवार को जिले की 154 बैक शाखाओं में ताला लटक गया। दो दिवसीय हड़ताल के कारण बैंकों के शटर नही खुले। दिनभर लोग बैंक शाखा का चक्कर लगाते रहे। जिला मुख्यालय स्थित एसबीआई, बैंक ऑफ इंडिया, सेंट्रल बैक ऑफ इंडिया, पीएनबी, इंडियन बैंक,केनरा बैंक, आईडीबीआई समेत अन्य बैंकों में हड़ताल के कारण कामकाज ठप पड़ गया। हड़ताल में कर्मियों के अलावा अधिकारी भी शामिल हैं। बैंककर्मियों ने भारतीय स्टेट बैंक मिरचाईबाड़ी स्थित मुख्य शाखा पर धरना दिया तथा सरकार के विरोध में नारेबाजी की। कर्मचारियों का कहना था कि सरकार वेतन बढ़ोतरी में मनमानी कर रही है।

दोपहर बाद एटीएम बंद : कटिहार। बुधवार को शहर के अलावा ग्रामीण इलाके के एटीएम के आगे लंबी कतारें लगी रही। जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक ने दावा किया था कि एटीएम में पर्याप्त मात्रा में कैश की व्यवस्था की गई है लेकिन बुधवार को दोपहर के बाद आधा से अधिक एटीएम कैशविहीन हो गये। सुबह से ही शहर के एटीएम के आगे रुपये निकालनेवालों की लम्बी कतारें रही। ग्रामीण इलाके के एटीएम बंद ही रहे।

दो प्रतिशत वेतन वृद्धि होना न्यायोचित नही : धरना मेें कर्मचारी संघ पूर्णिया अंचल के सहायक महासचिव प्रणव पाल ने बताया कि 30 एवं 31 मई को दो दिवसीय हड़ताल है। उन्होंने कहा कि दो प्रतिशत अपमानजनक वेतन वृद्धि किया जो न्यायोचित नहीं है। इन्हीं मुद्दे को लेकर बैंक हड़ताल किया गया है। जिलाध्यक्ष पंकजेश कुमार , सचिव अनूप मुखर्जी ने बंैककर्मियो की चट्टानी एकता पर आभार प्रकट करते हुए इसी तरह गुरुवार को भी हड़ताल में सहयोग देने की अपील की।

पेंशनधारियों व वेतनभोगियों को हुई परेशानी : बैंक बंद होने के कारण व्यावसायिक कारोबार से जुड़े लोगों को रुपये के लेन- देन में परेशानी हुई। जिला अग्रणी बैंक प्रबंधक वीपी कुशवाहा ने बताया कि जिले मे कुल 154 विभिन्न बैंकों के शाखा कार्यरत है। बैंकों में प्रतिदिन पचास करोड़ का लेनदेन होता है। हड़ताल के कारण बैंक प्रबंधन को काफी नुकसान सहना पड़ा है। बैंक बंद रहने से आमलोगों के साथ- साथ पेंशनधारियों व वेतन उठाने वाले लोगों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ा।

बच्चे बैंक खुलने का करते रहे इंतजार : बुधवार को स्कूली बच्चे इंडियन बैंक पहंुचकर शटर खुलने की प्रतीक्षा कर रहे थे। अधिकतर स्कूली बच्चों का खाता भी बैंक में खुल गया है इसलिए बच्चे भी बैंक लेन-देन के लिए पहंुचते हेंैं। धरना में विभिन्न शाखाओं से आये इकाई सचिव ,शाखा प्रबंधकों, अधिकारियों ने भाग लिया। अविनाश कुमार, अभिषेक कुमार, सुनील कुमार, राकेश रंजन, प्रणय झा आदि शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ATMs answered in locked locks in banks