DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  कटिहार  ›  बिना जांच के लगाया जा रहा 45 प्लस को टीका

कटिहारबिना जांच के लगाया जा रहा 45 प्लस को टीका

हिन्दुस्तान टीम,कटिहारPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 05:20 AM
बिना जांच के लगाया जा रहा 45 प्लस को टीका

कटिहार | निज प्रतिनिधि

45 प्लस आयु के लोगों के लिए लगाये जा रहे शिविर में बिना चिकित्सीय जांच के धड़ल्ले से टीकाक रण कार्य जारी है। ड्यूटि रोस्टर में चिकित्सकों के नाम रहने के बाद भी कैम्पों से नदारद होने से टीकाकरण को पहंुचनेवाले लोगों के बीच जांच नहीं होने से दहशत का माहौल है। यह मामला मनसाही परिक्षेत्र की है। जहां सात पंचायतों के लिए पिछले 28 मई से 17 जून तक 45 प्लस आयु के लोगों के लिए शिविर लगाया जा रहा है लेकिन चिकित्सक की अनुपस्थिति में आशा , एएएनएम की उपस्थिति में टीका लगाने का कार्य बेधड़क किया जा रहा है।

इसकी शिकायत मनसाही रोगी कल्याण समिति के सदस्य कन्हैया पासवान ने सीएस से की है। उन्होंने बताया कि जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ डीएन झा ने 26 मई को जारी पत्र में टीकाकरण के लिए ऑन स्पॉट पंजीकरण एवं टीकाकरण किया जाना है। जिससे द्वितीय खुराक का शत प्रतिशत टीकाकरण कार्य हो सके। इसके लिए सभी आशा फैसिलेटर, मनसाही को आदेश दिया गया है। इसके लिए पंचायत व सत्र स्थल , दिनांक एवं चिकित्सक का नाम, फार्मासिस्ट का नाम, एएनएम और आशा फैसिलेटर के नामों का ड्यूटी रोस्टर तैयार किया गया है। जिसमें सभी को अलग अलग जगहों पर अलग अलग दिनों के लिए नामित किया गया है। 29 मई को मोहनपुर पंचायत भवन में आबीएस के टीम के सदस्यों में ,30 मई को मदरसा कुरसेल बांध डॉ श्वेता कुमारी एवं साहेबनगर बांध मदरसा में 31 मई को डॉ मनीश कुमार मनुवश को जांच के लिए नामित किया गया था। दोनों दिन शिविर से चिकित्सक अनुपस्थित रहे।

व्यवस्था उठाया सवाल: रोगी कल्याण समिति के सदस्य कन्हैया पासवान समेत अन्य ने व्यवस्था पर सवाल उठाया है। उन्होंने बताया कि आरबीएस के चिकित्सक डॅा श्वेता कुमारी 24 मई से अनुपस्थित हैं तो किस आधार पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी मनसाही द्वारा 29 मई को ड्यूटि रोस्टर में उन्हें नामित किया गया। इस बाबत मनसाही सीएचसी प्रभारी डॉ उर्मी पोद्दार ने बताया कि डॉ श्वेता कुमारी स्पेशल लीव में है। डॉ मनीष कुमार मनुवश को भी लगाये जा रहे शिविर में जांच के लिए कहा गया है कभी कभार जांच के लिए जाते भी है पीएचसी में भी और कार्य है जिनकी देखरेख करते हैं।

संबंधित खबरें