Saturday, January 29, 2022
हमें फॉलो करें :

गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार जमुईसगदाहा गांव में मृदा दिवस पर संगोष्ठी व पौधरोपण

सगदाहा गांव में मृदा दिवस पर संगोष्ठी व पौधरोपण

हिन्दुस्तान टीम,जमुईNewswrap
Mon, 06 Dec 2021 04:03 AM
सगदाहा गांव में मृदा दिवस पर संगोष्ठी व पौधरोपण

जमुई। निज प्रतिनिधि

विश्व मृदा दिवस के अवसर पर साईिकल यात्रा एक विचार, ग्रीनपीस एवं जीविका के संयुक्त प्रयास से खैरा प्रखंड के सगदाहा गांव में मिट्टी को बचाने के लिए संयुक्त रूप से पहल की गई। सगदाहा के ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से कहा कि अपनी खेती को टिकाऊ और मुनाफे वाली बनाने के लिए अपनी मिट्टी में ऐसे कृषि रसायनों का प्रयोग नहीं करेंगे जो मिट्टी और उसमें रहने वाले जीव-जंतुओं के लिए हानिकारक हैं। मंच के सदस्यों ने मिट्टी के उर्वरता को बरकरार रखने वाले 50 पौधा करेच, नीम, शरीफा, आंवला, कटहल के पौधे लगाए। इस अवसर पर खेती में महिलाओं की भागीदारी करने के लिए संगोष्ठि भी आयोजित की गई। जीविका के जिला जीवोकोपार्जन प्रबंधक कौटिल्य कुमार ने बताया कि एक अध्य्यन से जानकारी प्राप्त हुआ है कि भारत में लगभग 70 लाख हेक्टर ज़मीन मिट्टी खराब होने के कारण खेती योग्य नही है।

यह सालाना 10 प्रतिशत की गति से बढ़ रही है। मौके पर मंच के सदस्य विवेक कुमार ने बताया कि मिट्टी है तो जीवन हैं। पानी के साथ-साथ मृदा भी हमारा जीवन हैं। इसके लिए हमें अपने खेतों में हानिकारक कीटनाशक पदार्थो के जगह केचुआ निर्मित खाद का उपयोग करना चाहिए । सदस्य अजीत कुमार एवं संतोष कुमार ने चर्चा कि वर्ष विश्व मिट्टी दिवस का थीम क्षारियता से मिट्टी को बचाना और मिट्टी की उत्पादकता बढ़ाना निर्धारित किया । मिट्टी में नमक की मात्रा अधिक होने से मिट्टी की उत्पादन क्षमता तेज़ी से घटने लगती है। इस अवसर पर ग्रीनपीस के संतोष कुमार, सदस्य शेषनाथ राय, अजीत कुमार, शैलेश भारद्वाज, शेखर कुमार, अभिषेक कुमार, सिंटू कुमार, अधिक सिंह समेत कई किसान उपस्थित थे।

epaper

संबंधित खबरें