Tuesday, January 25, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार जमुईजमुई शहर में अब तक सब्जी मंडी के लिए नहीं बना मार्केट

जमुई शहर में अब तक सब्जी मंडी के लिए नहीं बना मार्केट

हिन्दुस्तान टीम,जमुईNewswrap
Tue, 30 Nov 2021 04:02 AM
जमुई शहर में अब तक सब्जी मंडी के लिए नहीं बना मार्केट

जमुई। एक प्रतिनिधि

जमुई के शहर में सब्जी मंडी की मांग करीब 20 सालों से हो रही है पर अब तक मंडी के लिए मुफीद जगह नहीं मिली सकी है। बता दें कि वर्ष 21 फरवरी 1991 में जमुई को जिला का दर्जा मिला था। लोगों को काफी उम्मीदें जगी थी कि अब शहर का विकास होगा। जमुई में नगर परिषद संचालित है। शहर की संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। नप में तीस वार्ड हंै। करीब एक लाख से अधिक की आबादी भी है। लेकिन शहरवासियों को सब्जी खरीददारी के लिए जगह-जगह भटकना पड़ता है। वहीं ग्रामीण क्षेत्र से सब्जी लेकर आने वाले किसानों को भी व्यवसाय करने में परेशानी होती है। जमुई शहर में अब तक सब्जी मंडी के निर्माण के लिए कोई पहल नहीं की गई है। जिसके कारण शहर के थाना रोड में सड़क के किनारे ही सब्जी की दुकानें लगती है। मौसम के अनुसार दुकानदार अपनी दुकानें सजाते हैं। बारिश होने पर दुकानें बंद हो जाती है। ऐसी परिस्थिति में शहर के लोगों को सब्जी की खरीद करने के लिए भटकना पड़ता है। यूं तो थाना रोड के अलावा बोधवन तालाब मोड़, महिसौड़ी चौक समेत अन्य जगहों पर भी सड़क के किनारे ही सब्जी की बिक्त्री होती है। सब्जी मार्केट का निर्माण नहीं होने के कारण दुकानदारों के अलावा आम लोगों को कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है। जिले के कई प्रखंडों में किउल नदी के किनारे बड़े पैमाने में सब्जी का उत्पादन होता है। सब्जी मंडी का स्थाई निर्माण नहीं होने के कारण किसानों को सब्जी बेचने में कठिनाई होती है। खैरा के किसान रमेश कुमार ने बताया कि शहर के भछियार, नीमारंग, कल्याणपुर समेत कई जगहों पर किसान सब्जी का उत्पादन कर रहे हंै। किसानों का कहना है कि शहर में सब्जी मार्केट नहीं रहने के कारण थोक सब्जी का खरीददार भी कम है। सब्जी रखने के लिए कोई जगह भी नहीं है। किसान रामेश्वर ने बताया कि ऐसी परिस्थिति में कम कीमत पर सब्जी बेचने को विवश होना पड़ता है। वहीं दुकानदारों का कहना है कि उन लोगों ने नगर परिषद से ट्रेड लाईसेंस भी ले रखी है। सब्जी मंडी निर्माण के लिए कई बार अधिकारियों से गुहार लगाई गयी लेकिन इस मामले में अबतक कोई पहल नहीं हुई है। खैरा मोड़ निवासी आशा देवी , महिसौड़ी के बाबूलाल मंडल समेत कई लोगों ने बताया कि सबसे अधिक महिलाओं को सब्जी की खरीद करने में परेशानी हो रही है।

क्या कहते हैं अधिकारी

सब्जी मंडी के लिए जमीन की किल्लत है। जो दुकानदार जहां दुकान लगा रहे हैं, उन्हें उसी जगह पर हर सुविधा देने का काम किया जाएगा। इसके लिए बोर्ड की बैठक में बात रखी जाएगी।

मो. एहतेशाम हुसैन नगर प्रबंधक जमुई।

epaper

संबंधित खबरें