DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिले के 113 बैंक की शाखाओं में लटके रहे ताले, प्रदर्शन

जिले के 113 बैंक की शाखाओं में लटके रहे ताले, प्रदर्शन

यूनाईटेड फॉरम ऑफ बैंक यूनियन्स के आह्वान पर ग्यारवें वेतन समझौते को लागू करने की मांग को लेकर मंगलवार को बैंक अधिकारी और कर्मचारी सड़क पर उतरे। कचहरी मोड़ स्थित आईसीआई बैंक के समीप बैंक अधिकारियों और कर्मचारियों ने प्रदर्शन किया। वेतन वृद्धि की मांग को लेकर जिले के 113 बैंक की शाखाओं में ताले लटके रहे। जिसके कारण काम काज नहीं हुआ। एलडीएम मिथलेश कुमार ने बताया कि वेतन वृद्धि की मांग को लेकर दो दिवसीय हड़ताल किया गया है। जिसमें विभिन्न बैंकों के अधिकारी और कर्मचारी शामिल हैं।

बैंक यूनियन्स की मांगों में वेतन में पर्याप्त वृद्धि एवं सेवा शर्तों में बेहतरी और वेतन समझौता में स्केल सात तक के अधिकारियों को शामिल करने की मांग शामिल है। आंदोलन में शामिल बैंक अधिकारियों और कर्मचारियों का कहना है कि आईबीए ने पिछली वार्ता में दो प्रतिशत वेतन वृद्धि का प्रस्ताव दिया।

जिसे यूएएफ बीयू ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया। आंदोलन कारियों ने कहा कि पिछले वेतन के समझौते के तर्ज पर कम से कम पन्द्रह प्रतिशत से अधिक की वेतन में वृद्धि की जाय। आंदोलन में यूको बैंक के रितेश रंजन, इंडियन बैंक के अजीत मिश्रा, बैंक ऑफ इंडिया के रंधीर कुमार, बैंक आफ बड़ौदा के कुंदन भारती समेत कई बैंकों के अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे। निजी बैंकों में भी नहीं हुए काम: एसबीआई, बैंक ऑफ इंण्डिया, यूनियन बैंक के अलावा अन्य सरकारी करण बैंक के अलावा निजी बैंकों में भी काम काज नहीं हुए। एचडीएफसी, आईसीआई समेत कई निजी बैंकों में भी ताले लटके रहे। कचहरी मोड़ के समीप आंदोलन में शामिल बैंक कर्मचारियों ने निजी बैंकों को भी बंद करा दिया। नतीजतन निजी बैंकों में भी ताले लटक गए। कर्मचारियों और अधिकारियों के हड़ताल के कारण काम काज पूरी तरह ठप रहा। नतीजतन आम लोगों को काफी परेशानी हुई। जिन लोगों को खाते में वेतन का पैसा जाता है नहीं पहुंचा वहीं रुपये की जमा और निकासी नहीं हुई। बाजार पर भी पड़ा हड़ताल का असर: बैंक कर्मचारियों एवं अधिकारियों के हड़ताल का असर बाजार में भी देखने को मिला।

आम दिनों की अपेक्षा बाजार में व्यापार प्रभावित हुआ। जिसके कारण व्यवसाईयों को नुकसान हुआ । बैंक बंद रहने के कारण जमुई शहर में करीब पचास लाख से अधिक का कारोबार प्रभावित हुआ। महेन्द्रा ऑटो सर्विस सेंटर के संचालक संतोष सिंह, चैम्बर ऑफ कामर्स के सचिव शंकर साह ने बताया कि बैंकों में काम काज ठप रहने के कारण बाजार पर पूरा असर पड़ा है। शुक्रवार से ही बाजार में रौनक आएगी। गुरुवार को भी बैंक बंद रहेंगे। उन्होंने कहा कि जमुई शहर में खुदरा कारोबार ही अधिक होता है। नगद लेन देन का कारोबार आम लोग करते है। स्वाइप मशीन का प्रयोग दो प्रतिशत लोग ही जमुई में करते है। वहीं इसका असर खैरा में भी देखने को मिला।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Locks hanging in 113 branches of the district, exhibits