ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News बिहार जमुईझाझा: उप प्रमुख की कुर्सी हिली,जोरदार बहुमत के साथ पारित हुआ अविश्वास प्रस्ताव

झाझा: उप प्रमुख की कुर्सी हिली,जोरदार बहुमत के साथ पारित हुआ अविश्वास प्रस्ताव

झाझा प्रखंड के उप प्रमुख मो. सद्दाम को अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। उनके विरूद्ध आया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया है। प्रस्ताव...

झाझा प्रखंड के उप प्रमुख मो. सद्दाम को अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। उनके विरूद्ध आया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया है। प्रस्ताव...
1/ 2झाझा प्रखंड के उप प्रमुख मो. सद्दाम को अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। उनके विरूद्ध आया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया है। प्रस्ताव...
झाझा प्रखंड के उप प्रमुख मो. सद्दाम को अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। उनके विरूद्ध आया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया है। प्रस्ताव...
2/ 2झाझा प्रखंड के उप प्रमुख मो. सद्दाम को अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। उनके विरूद्ध आया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया है। प्रस्ताव...
हिन्दुस्तान टीम,जमुईThu, 22 Feb 2024 12:30 AM
ऐप पर पढ़ें

झाझा । निज संवाददाता
झाझा प्रखंड के उप प्रमुख मो. सद्दाम को अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। उनके विरूद्ध आया अविश्वास प्रस्ताव बुधवार को पारित हो गया है। प्रस्ताव पर चर्चा एवं मतदान को बुधवार को स्थानीय प्रखंड कार्यालय के सभागार में प्रखंड प्रमुख बदमियां देवी की अध्यक्षता में एक विशेष बैठक हुई थी। बैठक में जिला प्रशासन के प्रतिनिधि के बतौर डीएम द्वारा प्रतिनियुक्त जिला लोक शिकायत निवारण पदा. राम दुलार राम बतौर प्रेक्षक उपस्थित थे। बैठक में प्रमुख समेत प्रखंड पंचायत समिति (पंसस) के 26 में 23 सदस्य उपस्थित थे। मतदान में एक मत अवैध करार दिया गया। किंतु शेष सभी 22 मत अविश्वास प्रस्ताव के समर्थन में पाए बताए गए हैं। यानि उपस्थित सभी पंसस ने सौ फीसदी तौर पर प्रस्ताव के पक्ष या कहें कि मौजूदा उप प्रमुख के विरोध में अपना मत दिया। अन्य तीन पंसस जो बैठक में अनुपस्थित बताए गए उनमें करमा अनुराधा भारती,रजला की सुनैना देवी एवं एक मो. सद्दाम खुद थे। जानकारीनुसार पंसस ने बीते 12 फरवरी को प्रमुख एवं बीडीओ को उप प्रमुख के विरूद्ध अविश्वास का आवेदन सौंपा था। अविश्वास प्रस्ताव का आवेदन देने वाले सदस्यों न उप प्रमुख पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। प्रस्ताव के पारित हो जाने पर उप प्रमुख को करीब सवा दो साल बाद ही अपनी कुर्सी से रूख्सत हो जाना पड़ा है। बीडीओ रवि जी ने अविश्वास प्रस्ताव पर मतदान के नतीजों की पुष्टि करते हुए बताया कि नए उप प्रमुख के चुनाव को जिला प्रशासन द्वारा तिथि तय की जाएगी। ध्यान रहे कि 9 नवंबर, 20 को पंचायत समिति के पिछले कार्यकाल के दौरान रहे तत्कालीन उप प्रमुख के विरूद्ध भी अविश्वास प्रस्ताव की स्थिति बनी थी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें