DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   बिहार  ›  जमुई  ›  चार दोस्त नहाने गए आंजन नदी, एक की डूबने से हुई मौत
जमुई

चार दोस्त नहाने गए आंजन नदी, एक की डूबने से हुई मौत

हिन्दुस्तान टीम,जमुईPublished By: Newswrap
Sat, 19 Jun 2021 05:30 AM
चार दोस्त नहाने गए आंजन नदी, एक की डूबने से हुई मौत

बरहट (जमुई)। निज संवाददाता

मलयपुर थाना क्षेत्र की आंजन नदी में शुक्रवार को एक युवक की नदी में स्नान करने के दौरान डूबने से मौत हो गई। वहीं दूसरे को बचा लिया गया। घटना के बाद नदी किनारे अफरातफरी मच गयी। डूबे युवक की तलाश में लोग जुट गये। काफी मशक्कत के बाद शव बरामद किया जा सका। शव मिलते ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।

मृत युवक की पहचान अभिषेक कुमार (17) के रूप में की गयी। वह मलयपुर थाना क्षेत्र के साकिन मलिया टोला निवासी संतोष साव का पुत्र था। घटना की सूचना पर ग्रामीणों के साथ मलयपुर पुलिस भी मौके पर पहुंची। ग्रामीणों के अनुसार सुबह करीब 10.30 बजे गांव के चार युवक अभिषेक, मनीष, राहुल व धर्मेंद्र आंजन नदी स्नान करने गए थे। अभिषेक व मनीष नहाने के लिए नदी में उतर गए थे, जबकि उसके दो दोस्त राहुल व धर्मेंद्र ऊपर ही बैठे रहे। इसी बीच नदी में स्नान कर रहा अभिषेक पानी में डूबने लगा। उसे बचाने को मनीष जब आगे बढ़ा तो वह भी पानी की चपेट में आ गया। दोनों दोस्तों को पानी में डूबते देख बाहर बैठे दोनों दोस्त शोर मचाते नदी में कूद गए। दोनों दोस्तों ने किसी तरह मनीष को बाहर निकाला जबकि अभिषेक गहरे पानी में समा गया। इसी बीच चीख-पुकार की आवाज सुनकर आसपास के ग्रामीण दौड़े हुए वहां पहुंचे और नदी में उतर ढूंढने का काफी प्रयास किया किंतु युवक नहीं मिला । पश्चात ग्रामीणों द्वारा पैंघी गांव के तैराक जोहरी मियां सहित उसके कुछ साथियों को बुलाया गया। तकरीबन डेढ़ घंटे के बाद नदी में उतरे युवकों ने डूबे युवक को खोज निकाला। परिजनों द्वारा उसे सदर अस्पताल पहुंचाया गया जहां जांचोपरांत डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। युवक के मृत घोषित होते ही परिजनों में कोहराम मच गया। मृतक की मां एवं बहनों का रो-रो कर बुरा हाल हो रहा था। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक के पिता मलयपुर बाजार में फल बेचकर परिवार का गुजारा कर रहे थे ।मृतक दो भाइयों में बड़ा था । घटना के दिन मृतक के पिता फल लाने बाहर गए हुए थे।

बालू निकालने के कारण नदी हो जाती है दलदली

ग्रामीणों की मानें तो नदी से अत्यधिक बालू निकालने के कारण नदी गड्ढा हो जाता है। पश्चात बरसात के दिनों में वह दलदली हो जाता है जहां लोगों के डूबने की आशंका बनी रहती है । ग्रामीणों ने यह भी बताया इस नदी से बालू निकालना वर्जित ह बावजूद बालू माफिया दिन-रात नदी से बालू का अवैध उत्खनन करते हैं । इसमें जिला प्रशासन की भी अहम भूमिका होती है। यही कारण है कि प्रतिवर्ष बरसात के दिनों में इस नदी में डूब कर कुछ लोगों की मौत होती है।

कहते हैं प्रभारी थानाध्यक्ष

इस संबंध में प्रभारी थाना अध्यक्ष कृष्ण बल्लभ प्रसाद कहते हैं कि घटना को लेकर यूडी केस दर्ज कर लिया गया है पोस्टमार्टम करा कर लाश को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया है।

कहते हैं सीओ

इस संबंध में सीओ रणधीर प्रसाद कहते हैं कि आपदा राहत कोष के तहत सरकारी प्रावधान चार लाख रूपए तक देने का है ।सारी प्रक्रिया पूरी करने के बाद सरकारी सहायता दी जाएगी।

संबंधित खबरें