DA Image
Thursday, December 2, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार जमुईबिहार झारखंड बॉर्डर क्षेत्र में हाथियों का उत्पात

बिहार झारखंड बॉर्डर क्षेत्र में हाथियों का उत्पात

हिन्दुस्तान टीम,जमुईNewswrap
Sat, 23 Oct 2021 10:51 PM
बिहार झारखंड बॉर्डर क्षेत्र में हाथियों का उत्पात

खैरा। निज संवाददाता

बिहार झारखंड के बॉर्डर पर स्थित जंगल में बसे जगतपुर गांव में शनिवार की अहले सुबह 3 बजे अचानक 10 हाथियों का झुंड पहुंच गया । पक्का एवं मिट्टी के 4 घरों के दीवार को ध्वस्त कर दिया जिससे कि वहां के ग्रामीणों के समक्ष तत्काल रहने एवं भोजन की समस्या उत्पन्न हो गई है। जगतपुर गांव के सुंदर भुल्ला की पत्नी रामवती देवी कहती है कि हम तो बिल्कुल ही लूट चुके हैं। अब रहने का एक कमरा भी नहीं है। सहदेव भुल्ला की पत्नी मंजू देवी कहती है कि मेरे मिट्टी के घर के दीवाल को हाथियों के झुंड ने धक्का मारकर तोड़ दिया। बाली खैरवार की पत्नी मुखिया देवी का घर ईट का था जिसके दीवार को भी वह गिरा दिया। ग्रामीणों ने कहा कि हम लोग अब बेघर हो गए हैं । घर में खाने का सामान नहीं और सुरक्षित रूप से रहने का ठौर ठिकाना नहीं है । मुकेश खैरवार की पत्नी बदनिया देवी का घर भी क्षतिग्रस्त हो गया । सूचना मिलने पर गरही के मुखिया पति मोहम्मद अकरम ने उक्त सभी परिवारों को आर्थिक सहायता के रूप में 2000रू. दिए ।

थाम सिंह डीह कैम्प से नहीं मिलती सूचना तो जगतपुर गांव में हो सकता था बड़ा हादसा

हाथियों का झुंड जिसमें सात बड़ा और तीन छोटा है उक्त झुंड कौवाकोल थाना क्षेत्र के रज बारिया भीखोमोह नोनफरवा क्षेत्र होते हुए गिरिडीह जिला के थान सिंह डीह गांव के बगल में पहुंचा । हाथियों के झुंडके गर्जने से घुटिया के ग्रामीणों में अफरा-तफरी सी मच गई । इस गांव के लोगों ने टीन बजाकर आवाज करने लगे जिससे कि हाथियों का झुंड पूरब दिशा की ओर मुड़ गया । यह देखते ही सूचना थाम सिह डीह कैंप के पदाधिकारियों ने जगतपुर गांव को दिया। कहा कि हाथियों का झुंड तुम्हारे गांव की ओर जा रहा है सपरिवार घर से निकल कर अन्यत्र चले जाओ । यह सुनकर जगतपुर मोहल्ले में भय का माहौल बन गया । यहां के ग्रामीण भागते हुए सिकरिया टाँड़ पहुंचे । इसके कुछ ही पल बाद हाथियों का झुंड जगतपुर गांव पहुंचा और ईट मिट्टी के मकानों को ध्वस्त करने लगा घरों में रखे चावल आटा खाद्य की अन्य सामग्रियों को यत्र तत्र बिखेर दिया। इधर गांव के लोग सिकरिया टाँड़ में किसी प्रकार जग कर रात बिताई और दिन उगने के बाद वह अपने घर पहुंचे , मगर गांव में भय का माहौल बना हुआ है।

हाथियों के गर्जन से जगतपुर के ग्रामीण भयभीत

हाथियों के गर्जन से जगतपुर एवं आम कोली गांव के ग्रामीण पूरी तरह भयभीत है । जंगल का वातावरण बिल्कुल शांत हो गया है । मवेशी चराने वाले चरवाहे भी आज शनिवार के दिन जंगल की और नहीं गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार हाथियों का झुंड जगतपुर और अम कोली के मध्य में है। गांव के ग्रामीण सुरेश खैरवार ,लटू खैरवार ,जिरवा देवी ,कर्मी देवी, समुंदर खैरवार ,हरि भूला आदि कहते हैं कि हम लोगों का समय अब यहां कैसे कटेगा। जानकारी के अनुसार घुटिया गांव में लगे धान के फसल को भी हाथियों के झुंड ने रौद दिया जिससे किसानों के फसल का भारी नुकसान हुआ है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें