DA Image
28 जनवरी, 2021|3:34|IST

अगली स्टोरी

रेलवे के निजीकरण के विरोध में प्रदर्शन

default image

भारतीय रेलवे के निजीकरण एवं निगमीकरण के विरोध में रेलकर्मियों ने गुरूवार को प्रदर्शन कर अपनी आवाज बुलंद की। ऑल इण्डिया एससी एसटी कर्मचारी संघ की झाझा शाखा एवं किउल शाखा केनेताओं कार्यकर्ताओं ने किउल शाखा के सचिव महेंद्र चौधरी की अगुवाई में यह प्रदर्शन किया।

अखिल भारतीय विरोध प्रदर्शन की कड़ी में यह कार्यक्रम किया गया। मौके पर वक्ताओं ने कहा कि रेलवे में निजी ऑपरेटरों को कार्यभार सौंपने, रेलवे में 50 प्रतिशत पदों को समाप्त करने के निर्णय को सरकार वापस ले।

साथ ही, निजी क्षेत्र एवं न्यायपालिका में आरक्षण तथा इण्डियन जुडिशियल सर्विसेज का गठन कर उसे लागु किया जाय, देश में समान शिक्षा लागु हो तथा गरीब एवं अमीर दोनों के बच्चे एक ही विद्यालय में पढ़ें, पूना पैक्ट को लागु किया जाय आदि मांगों के समर्थन में कर्मचारियों ने अपनी आवाजें बुलंद की।

विरोध प्रदर्शन में झाझा शाखा के अध्यक्ष मनोज कुमार पासवान, रतन नूतन एक्का, देवाशीष, नचिकेता, धीरज रावत, प्रशांत साव, सुनील पासवान, किउल शाखा के उपाध्यक्ष अनिल कुमार हांसदा, एनके रजक, कुमारिया मांझी आदि शामिल हुए। विरोध प्रदर्शन शुरू होने के पूर्व रेल राज्य मंत्री सुरेश आंगड़ के निधन पर दो मिनट को मौन रख उन्हें भावभीनी श्रद्धांजली दी गई। विरोध प्रदर्शन में मास्क एवं सुरक्षित सामाजिक दूरी का पालन किया गया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Demonstration against privatization of railways