DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ताराकूरा पहाड़ी पथ के पक्कीकरण की मांग

ताराकूरा पहाड़ी पथ के पक्कीकरण की मांग

झाझा नगर क्षेत्र से ताराकू रा, तुलसीकूरा समेत अन्य गांवों को जोड़ने वाली पहाड़ी पथ के पक्कीकरण की ग्रामीणों ने विभागीय प्रशासन से मांग की है। प्रसिद्ध यक्षराज स्थान मंदिर, संत जोसेफ उच्च विद्यालय होते हुए प्रखंड के दर्जन भर गांवों की ओर जाने वाली पथ का कालीकरण नहीं रहने से यात्रियों, वाहन चालकों, राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

कई गांव के ग्रामीणों का कहना है कि सड़क कच्ची रहने के कारण सबसे अधिक मरीजों को परेशानी होती है। कई बार इस सड़क के कालीकरण का कार्य कराने के लिए विभागीय अधिकारी से लेकर स्थानीय प्रतिनिधि को भी अवगत कराया गया लेकिन नतीजा कुछ भी नहीं निकल पाया। ग्रामीणों का कहना है कि बार बार ऐसा होता है कि पांच किलोमीटर के इस कठिन व दुर्गम पथ के पक्कीकरण के लिए चुनाव के समय अथवा उसके पूर्व नेताओं के आश्वासन के अलावे विभाग के द्वारा सड़क निर्माण का बोर्ड लगा दिया गया परंतु काम क्या हुआ यह प्रत्यक्ष दिखता है। यहां बता दें कि सुदूर एक नंबर सर्किल क्षेत्र के कठौतिया, गौरादांगी,बाबुकूरा, बारासिंगा, बालापांडर, कर्मा, पिरूआडीह, लखीसराय, ताराकूरा आदि गांवों के लोग इस दुर्गम पथ से होकर झाझा खरीददारी करने विद्यालयी एवं कालेज की शिक्षा ग्रहण करने आते हैं।

स्थानीय निवासी भीम यादव, डोमन यादव, बालापांडर के डीलो मंडल, जगदीश यादव, पिरूआडीह के बिनोद, कारू यादव, करमा के प्रदीप यादव, कठौतिया के मिर्जा बास्के, तालो मुर्मु, लुटन सोरेन, जट्टो किश्कु, झुमरी हेंब्रम, नंदलाल मुर्मु, लखन सोरेन, ताराकूरा के बिनय टुड्डु, मंझली मरांडी, बड़की सोरेन आदि का कहना है कि आजादी के बाद से अब तक एक संपर्क पथ का पक्कीकरण नहीं हो सका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Demand for the reconstruction of Tarakura hill trail