DA Image
26 नवंबर, 2020|11:24|IST

अगली स्टोरी

बरहट: आठ मजदूर अगवा, बाद में छोड़ा

default image

बरहट थाना क्षेत्र के गुरमाहा एवं चोरमारा के जंगलों से नक्सलियों ने 8 मजदूरों को अगवा करने के बाद करीब 24 घंटे बाद सभी का छोड़ दिया।

सभी मजदूर सात निश्चय योजना का कार्य कर रहे थे। इसका खुलासा तब हुआ जब एक फेरीवाले भी नक्सलियों के चंगुल में फंस गए। फेरीवाले की पहचान बरहट थाना क्षेत्र लखैय पंचायत के नंदन कुमार दास पिता लखन रविदास के रूप में की गई है। फेरीवाले नित्य दिन की तरह शनिवार को अपने घर से फेरी के लिए निकला था। देर रात तक भी जब वे वापस घर नहीं पहुंचा तो परिजन चिंतित हो गए। तब उसके रिश्तेदार लक्ष्मीपुर थाना जाकर थानाध्यक्ष को जानकारी दी। रविवार को फेरी वाला अपने ससुराल लक्ष्मीपुर के नजारी गांव पहुंचा तब परिजनों ने राहत की सांस ली। उसने बताया कि नक्सलियों के चंगुल में नल-जल योजना में कार्य करा रहे 8 मजदूर और फंसे हैं। मजदूरों को गांव के एक कमरे में बंद कर रखा गया है। बरहट थानाध्यक्ष अब्दुल हलीम एवं लक्ष्मीपुर थानाध्यक्ष राजकुमार ने कहा कि ऐसी कोई सूचना नहीं है।

वहीं सूत्र बताते हैं कि अगवा किए गए मजदूरों के अलावे सुपरवाइजर और इंजीनियर भी नक्सलियों के कब्जे में है। नक्सलियों ने इन लोगों का ट्रैक्टर और मोटरसाइकिल भी अपने कब्जे में कर रखा है। हालांकि संवेदक इन बातों को खारिज करता है, किंतु दबी जवान आसपास के लोग भी इन बातों को स्वीकार कर रहे हैं। बता दें कि तीन दिन पूर्व उस क्षेत्र में बालेश्वर कोड़ा के घर कुर्की की कार्रवाई की गई थी जिसमें उसकी पत्नी को पुलिस ले गई थी। कहीं उस घटना को लेकर तो यह नहीं किया गया है। किसी भी संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Barhat Eight laborers abducted left later