DA Image
27 नवंबर, 2020|6:27|IST

अगली स्टोरी

महिला वोटरों से पिछड़े मर्द वोटर

default image

जिले के चारों विधान सभा सीटों के लिए हुई वोटिंग में शहरी मतदाताओं से ग्रामीण मतदाता आगे निकल गए। जहां शहरी क्षेत्रों में यह प्रतिशत 57 प्रतिशत के करीब रहा तो ग्रामीण क्षेत्रों में वोटिंग प्रतिशत बढ़कर 64 के करीब पहुंच गया। मतदान के बाद सभी पार्टियां और जिला प्रशासन समीक्षा में जुट गई है।

हालांकि झाझा में जहां सीधी टक्कर के आसार हैं वहीं जीत के दावे वहां से निर्दलीय भी कर रहे हैं। जिला प्रशासन ने मतगणना की तैयारी भी शुरू कर दी है। झाझा विधानसभा की बात करें तो कुल 315691 मतदाताओं में से 193533 मतदाताओं ने मताधिकार का प्रयोग किया। कुल 61. 30% मतदान हुआ। हालांकि झाझा विधान सभा क्षेत्र के गिद्धौर के मतदाताओं ने बाजी मार ली। गिद्धौर प्रखंड के कई बूथ ऐसे थे जहां 80 फीसदी के करीब वोटिंग हुई है जिसमें प्रमुख रूप से रतनपुर हाई स्कूल जहां 78 फीसदी लोगों ने अपने मतों का प्रयोग किया।

वहीं गिद्धौर के ही संस्कृत महाविद्यालय में यह प्रतिशत 79 के करीब रहा जो झाझा विधान सभा क्षेत्र में सबसे अधिक मतदान वाला बूथ है। बता देंे कि झाझा विधान सभा सीट से लड़ रहे प्रत्याशी गिद्धौर के ही निवासी हैं। कई लोग इस वजह से भी वहां के मतदाताओं में अधिक वोटिंग उनके यहां के प्रत्याशी को लेकर भी कह रहे हैं। वहीं झाझा के मध्य विद्यालय चरघरा में सबसे कम वोटिंग हुई वहां वोट का 36 प्रतिशत के ही करीब रहा। जबकि नक्सल इलाके में कई बूथ ऐसे हैं जहां 75 फीसदी तो वोटिंग हुई है।

इस बार पांच फीसदी वोट प्रवासियों का था

सूत्र बताते हैं कि इस बार 5 फीसदी वोट प्रवासियों का था जो लॉक डाउन के कारण यहां पहुंचे थे और वोटिंग की थी। वहीं युवा वोटरों की बात करें तो यह आंकड़ा झाझा में 8 हजार के करीब है। हालांकि पिछले 2015 की अपेक्षा इस बार यहां करीब 15 हजार अधिक वोटर हैं। वहीं 2015 में जहां वोटिंग का प्रतिशत 53 फीसदी था वहीं 2020 में यह प्रतिशत 61.3 पहुंच गया। यहां 101819 पुरुष और 91714 महिलाओं ने मताधिकार का प्रयोग किया। कुल मतदाताओं की बात करें तो 2015 की अपेक्षा इस बार महिला वोटरों का भी प्रतिशत बढ़ा है 2015 में जहां 46 प्रतिशत वोट का इस्तेमाल महिलाओं द्वारा हुआ वहीं इस बार यह प्रतिशत 48 के करीब पहुंच गया। महिला पुरूषों के अलग-अलग आंकड़ों को निकालें तो महिला वोटिंग का प्रतिशत पुरूषों से अधिक रहा। पुरूष जहां 61 प्रतिशत पर ही सिमट गए वहीं महिला वोटिंग का प्रतिशत 62 रहा।