DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो युवकों की गिरफ्तारी के विरोध में रोड पर उतरे आदिवासी

दो युवकों की गिरफ्तारी के विरोध में रोड पर उतरे आदिवासी

दो युवकों की गिरफ्तारी के विरोध में 20 गांवों के आदिवासियों ने मंगलवार को जिला पार्षद रामलखन मुर्मू के नेतृत्व में बामदह मोड़ के पास चकाई-जमुई मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। जाम तीन घंटे से अधिक समय तक रहा। इसके कारण लोगों को आवागमन में काफी परेशानी हुई।

सड़क जाम की सूचना पर एएसपी अभियान सुधांशु कुमार, एसडीओ लखेन्द्र पासवान, झाझा एसडीपीओ भास्कर रंजन, बीड़ीओ सुनील कुमार चांद, इंसपेक्टर चंदेश्वर पासवान, चन्द्रमंडीह थानाध्यक्ष रंजीत कुमार आदि मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों को समझा कर जाम हटवाया। उल्लेखनीय है कि ग्रामीण खैरा के गरही डैम के पास से तीन दिन पूर्व (शनिवार रात को) ठाढ़ी पंचायत के हरला एवं खुटमों गांव के दो युवक को नक्सली बता गिरफ्तार कर जेल भेजने से आक्रोशित थे और दोनों युवकों की रिहाई की मांग कर रहे थे। जाम कर रहे ग्रामीण पारंपरिक हथियारों से लैस थे। ग्रामीण पुलिस प्रशासन के विरोध में नारेबाजी कर रहे थे। ग्रामीणों एवं जिलापार्षद श्री मुर्मू ने खैरा में सुरक्षा बलों द्वारा पकड़े गये हरला निवासी राकेश मरांड़ी एवं खुटमों निवासी मुन्ना मरांड़ी को निर्दोष बताते हुए कहा कि दोनों युवक पांच सितंबर को खैरा थाना क्षेत्र के दीपाकहर गांव निवासी ढेना बास्के के घर रिश्ता तय करने के लिए गए थे। तीन दिन पूर्व दोनों युवक वहां से वापस घर लौटने के क्रम में गरही डैम के पास लघुशंका के लिए रूके थे। इसी दौरान सुरक्षा बलों ने नक्सली के नाम पर दोनों को गिरफ्तार कर लिया। ग्रामीणों ने कहा कि पुलिस जिसे राकेश मरांड़ी बता रही है वह राजेश मरांड़ी है। गिरफ्तार राजेश एवं मुन्न पीपीवाई कॉलेज चकाई में बीए पार्ट टू के छात्र हैं। राजेश की मां सुमा टुड्डू तथा मन्ना मरांडी के पिता बच्चन मरांडी ने बताया कि दोनों का किसी भी नक्सली संगठन से कोई लेना देना नहीं है। जाम करने वालों में खुटमो, हरला, लकड़ा, करमिया, दोतना, सपहा, नोकहा, सतपोखरा, बाराताड़, ठाड़ी, भेलवा गांव के लोग शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Adivasi descended on the road in protest against the arrest of two youths