A great way to have a picnic in Kundghat and birthplace - कुंडघाट और जन्मस्थान में पिकनिक मनाने का है बड़ा साधन DA Image
20 फरवरी, 2020|8:10|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुंडघाट और जन्मस्थान में पिकनिक मनाने का है बड़ा साधन

default image

जमुई: लोग पिकनिक मनाने के लिए जंगली इलाकों को बेहद पसंद करते हैं। वही नववर्ष के मौके पर आज बुधवार को सिकंदरा प्रखंड के दक्षिणी जंगली इलाकों में पिकनिक मनाने के लिए लोग अपने परिवार के साथ हजारों की संख्या में पहुंचेंगे। खासकर पिकनिक के नाम से बच्चे एवं महिलाओं में काफी खुशी देखी जाती है। जिसका नजारा जंगली क्षेत्रों में देखने को मिलेगी। खासकर भगवान महावीर की धरती लछुआड़ के घनघोर जंगलो में भारी संख्या में लोगों की भीड़ देखने को मिलेगी। जहां दुर दराज से लोग इस इलाके में आकर पिकनिक का लुप्त उठाते है। लछुआड़ के जंगलो सहित कुंडघाट में भी पिकनिक मनाने वालो की भीड़ भारी संख्या में लगती है। इससे भी ज्यादा मजा लोगो को तब आता था जब वे कुंडघाट से पैदल सात पहाड़ पार कर भगवान महावीर की जन्म भूमि पर पिकनिक मनाते थे। लेकिन नए डैम का निर्माण होने से फिलहाल पैदल के रास्ते को खत्म कर दिया गया है। इसलिए कुंड घाट में भी लोगों की भीरा अधिक रहती है। नववर्ष में लोगों के द्वारा पिकनिक कुंडघाट के आसपास के जंगलों में मनाई जाएगी। वही हजारों की संख्या में लोग वाहन के द्वारा सिकंदरा से 24 किलोमीटर सात पहाड़ियों के बीच जन्मस्थान के जंगलों में जाकर पिकनिक मनाएगें। अन्य जिले से लोग अपने परिवार बच्चों के साथ भगवान महावीर की धरती पर पहुंचकर पिकनिक मनाने के साथ साथ घने जंगल पहाड़ एवं पोखर का मजा लेंगे। वही जन्मस्थान में भगवान महावीर की भव्य मंदिर का जीर्णोद्धार कार्य तेजी से चल रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:A great way to have a picnic in Kundghat and birthplace