DA Image
7 जून, 2020|1:03|IST

अगली स्टोरी

कोरोना के संदिग्ध मरीज को भेजा पीएमसीएच

सदर अस्पताल में कोरोना वायरस का संदिग्ध मरीज मिलने की खबर से पूरे स्वास्थ्य विभाग में हड़कम्प मच गया। हुआ यूं कि शनिवार को सदर अस्पताल के आउटडोर में कड़ौना इलाके का एक मरीज इलाज कराने आया। उसमें सिर दर्द, खांसी और फ्लू के लक्षण थे। 

जब चिकित्सक से उसने बोधगया में रहने और वहां तिब्बतियों के साथ समय बिताने की बात बताते हुए कहा कि उसी के बाद उसमें सिर दर्द और फ्लू हो गया है। ओपीडी में मौजूद चिकित्सक ने सिर दर्द और फ्लू के लक्षण के साथ उसकी विदेशियों के साथ रहने की हिस्ट्री सुनकर उसे कोरोना वायरस की जांच के लिए पीएमसीएच रेफर कर दिया। इसकी सूचना जब अस्पताल के अधीक्षक और सिविल सर्जन को मिली तो वे सन्न रह गए। 

सीएस दौड़े-दौड़े सदर अस्पताल पहुंचे। वहां तुरंत सभी चिकित्सकों के साथ सीएस और अधीक्षक की एक आपातकालीन बैठक बुलाई गई। उक्त बैठक में मरीज को बुलाकर उसकी जांच की गई और गहराई से उसके  उन जगहों पर आने-जाने और कथित रूप से विदेशियों के साथ रहने के बारे में पूछताछ की गई। उसने बताया कि बोधगया में वह कुछ घंटे तिब्बतियों के साथ बिताया था। जब उससे यह पूछा गया कि उन विदेशियों में किसी को फ्लू, सिरदर्द, खांसी या बुखार जैसे लक्षण थे, तो उक्त मरीज ने इससे इनकार किया।

सीएस ने कोरोना वायरस से किया इंकार  
सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार सिन्हा ने बताया कि उक्त मरीज में कोरोना वायरस का कोई लक्षण या हिस्ट्री नहीं है। उसे आम फ्लू हुआ है, जिसके लिए उसे दवा दे दी गई है। उसे कोरोना वायरस की जांच के लिए पीएमसीएच नहीं भेजा गया है। वह अपने घर चला गया है। सीएस ने बताया कि अभी तक बोधगया में भी किसी विदेशी या तिब्बती में कोरोना वायरस के लक्षण नहीं मिले हैं। किसी विदेशी के देश की धरती पर उतरते ही उसकी जांच की जाती है। उसमें कोरोना वायरस का लक्षण मिलते ही उसे आइसोलेट कर लिया जाता है। उसकी सूचना सभी जगह भेज दी जाती है। ऐसे में इलाज कराने आए उक्त मरीज में कोराना वायरस होना संभव नहीं है। इस मामले में उक्त चिकित्सक से स्पष्टीकरण पूछा जा रहा है कि किस हालत में उन्होंने उक्त मरीज को कोरोना वायरस की जांच के लिए पीएमसीएच रेफर किया था।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:PMCH sent to suspected patient of Corona