DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार जहानाबाददीपावली को लेकर घरों की साफ-सफाई में जुटे लोग (पेज चार का फ्लायर)

दीपावली को लेकर घरों की साफ-सफाई में जुटे लोग (पेज चार का फ्लायर)

हिन्दुस्तान टीम,जहानाबादNewswrap
Wed, 27 Oct 2021 08:30 PM
दीपावली को लेकर घरों की साफ-सफाई में जुटे लोग (पेज चार का फ्लायर)

मकानों का किया जा रहा रंग-रोगन, पेंट और चूने की बढ़ी बिक्री

दीपावली को लेकर लोगों के घरों में दिख रहा स्वच्छता की झलक

इंफो-

02 नवम्बर को मनाया जाएगा धनतेरस

04 नवम्बर को है दीपावली का पर्व

मखदुमपुर । निज संवाददाता

दीपावली की तैयारी शुरू हो चुकी है। लोग अपने-अपने घरों की साफ-सफाई कार्य में जुट गए हैं। घरों को नये लुक में दिखने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। घरों का रंग-रोगन का कार्य चल रहा है। जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में दीपावली को लेकर घरों के कूड़े-कचरे का उठाव और कपड़े की सफाई हो रही है। घरों में स्वच्छता की झलक देखने को मिल रही है। इन दिनों सभी के घरों में सफाई अभियान का कार्य चल रहा है। दो नवम्बर को धनतेरस है। जबकि चार नवम्बर को दीपावली का पर्व मनाया जाएगा। इसके लिए महिलाएं पहले से ही तैयारी कर रही है। घरों का रंग-रोगन औकात के अनुसार लोग कर रहे हैं। दीवारों और कमरो को पेंट से चमकाया जा रहा है। वहीं कई लोग चूने का प्रयोग कर घरों का रंगाई कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में चूने की मांग अधिक है। वहीं संपन्न परिवार के लोग घरों में बालपूटी करा रहे हैं। ब्रांडेड पेंटों का इस्तेमाल किया जा रहा है। इन दिनों शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों के बाजार में पेंट और चूने की बिक्री बढ़ गई है। वहीं मजदूरों को भी रोजगार मिल रहा है। दीपावली को लेकर प्रतिदिन ग्रामीण क्षेत्रों से सैकड़ों मजदूर शहर में आकर रोजगार प्राप्त कर रहे हैं। मखदुमपुर शहर के नबावगंज मोड़, पाई बिगहा मोड़, ब्लॉक मोड़ के समीप सुबह सात बजे ही मजदूर आ जाते हैं। यहीं से लोग मजदूरों को अपने घरों का रंग-रोगन करने के लिए ले जाते हैं। इसके अलावा ठेके पर भी रंग-रोगन का काम कराया जा रहा है। प्रतिदिन मजदूर घर की रंगाई कार्य के लिए चार सौ रुपये मेहताना ले रहे हैं। पेंटर अवधेश वर्मा ने बताया कि बालपुट्टी का रेट अलग है। जबकि सेम और पेंट का रेट अलग है। मकान में वर्ग फीट के हिसाब से मजदूरी ली जा रही है। उसने बताया कि चार जगहों पर ठेका ले रखा हूं। उसके अधीन 25-30 मजदूर काम कर रहे हैं। बड़े मकानों के बाहरी दिवारों को रंग-रोगन करने के लिए झूले का इस्तेमाल किया जा रहा है। कई पेंटरों ने बताया कि बाहर की दिवारों की रंगाई के लिए अलग रेट निर्धारित है। कई लोग डिजाईन के अनुसार अपने घरों की रंगाई करा रहे हैं। मकानों के अलावा खिड़कियों और ग्रिलों को भी चकाचक किया जा रहा है।

फोटो-27 अगस्त जेहाना-15

कैप्शन-मखदुमपुर में संचालित रंग व पेंट की दुकान।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें