DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › जहानाबाद › मंदिरों में सज गए मां के दरबार, आज खुलेंगे मां के पट (पेज चार का फ्लायर)
जहानाबाद

मंदिरों में सज गए मां के दरबार, आज खुलेंगे मां के पट (पेज चार का फ्लायर)

हिन्दुस्तान टीम,जहानाबादPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:10 PM
मंदिरों में सज गए मां के दरबार, आज खुलेंगे मां के पट (पेज चार का फ्लायर)

देवी मंदिरों, घरों और पूजा पंडालों में मंगलवार को मां कालरात्रि की होगी पूजा

नवरात्र के छठे दिन आस्था के साथ मां कात्यायनी की हुई पूजा

शाम के समय देवी मंदिरों में लग रही भक्तों की भीड़

जहानाबाद। कार्यालय संवाददाता

नवरात्र को लेकर जिले के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों का वातावरण भक्तिमय बना हुआ है। श्रद्धालु शक्ति की उपासना में जुटे हैं। वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ मां की अराधना हो रही है। शंख, ध्वनि, घंटा के साथ दुर्गा सप्तशती का पाठ साधक कर रहे हैं। नवरात्र के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा हुई। उधर, मां के दरबार को आकर्षक संग से सजाया जा रहा है। विभिन्न प्रकार के फूलों से मां का दरबार सज रहा है। शहर स्थित ठाकुरबाड़ी, बड़ी देवी का दरबार फूलों से सजाया गया है। इसके अलावा मां मांडेश्वरी, अष्टभूजि मंदिर, काको मोड़ स्थित दुर्गा मंदिर के अलावा कई पूजा पंडालों में फूलों से मां का दरबार सज रहा है। पटना के अलावा बंगाल और बनारस से फूल मंगाए गए हैं। सोमवार को देवी मंदिरों, पूजा-पंडालों के अलावा घरों में आस्था के साथ मां की पूजा हुई। दुर्गा पुरान के अनुसार नवरात्र के छठे दिन जो साधक मां कात्यायनी की पूजा विधि-विधान से करते हैं। उनके घर से दरिद्रता दूर होती है। भगवान श्रीकृष्ण को पति के रुप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने इनकी पूजा की थी। यह पूजा कालिंदी यमुना के तट पर की गई थी। इसीलिए ये ब्रजमंडल की अधिष्ठात्री देवी के रुप में प्रतिष्ठित हैं। कात्य गोत्र में विश्व प्रसिद्ध महर्षि कात्यायन ने भगवती पराम्बा की उपासना की। कठिन तपस्या के बाद उनके घर में पुत्री ने जन्म लिया। इसीलिए मां के छठे रुप को कात्यायनी कहा जाता है। इनकी सवारी सिंह है। यह शीघ्र ही प्रसन्न होती है। इधर, मंगलवार को घरों और पूजा पंडालों के अलावा देवी मंदिरों में नवरात्र के सप्तमी को

मां कालरात्रि की पूजा होगी। मंगलवार की शाम पूजा-पंडालों में मां की प्रतिमा स्थापित होगी। शाम के समय पूजा-अर्चना करने के बाद भक्तों के दर्शन के लिए पंडालों के पट खोल दिए जाएंगे।

फोटो-11 अक्टूबर जेहाना-34

कैप्शन-शहर के गौरक्षणी मंदिर में भजन-कीर्तन करतीं महिलाएं।

संबंधित खबरें