DA Image
हिंदी न्यूज़ › बिहार › जहानाबाद › आस्था का केन्द्र बना है मल्लहचक देवी मंदिर
जहानाबाद

आस्था का केन्द्र बना है मल्लहचक देवी मंदिर

हिन्दुस्तान टीम,जहानाबादPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 08:10 PM
आस्था का केन्द्र बना है मल्लहचक देवी मंदिर

मंदिर में मां की नौ पिंडियां है स्थापित

मंगलवार और शनिवार को देवी मंदिर में लगती है भक्तों की भीड़

सोइया घाट से पूजा-अर्चना करने के लिए लोग लेते हैं पवित्र जल

जहानाबाद। कार्यालय संवाददाता

शहर के मल्लहचक स्थित दरधा नदी के किनारे देवी मंदिर स्थापित है। पास में ही सोइया घाट है। जहां जमीन के भीतर से पानी का हमेशा रिसाव होता है। गर्मी में भी पानी कम नहीं होता है। लोग पूजा-अर्चना के लिए इस पवित्र जल का उपयोग करते हैं। मंदिर परिसर में कई पुराने वृक्ष हैं। जिससे मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं को शांति मिलती है। मल्लहचक निवासी बुजुर्ग रामचंद्र प्रसाद व गनौरी प्रसाद ने बताया कि यह मंदिर वर्षों पुराना है। उन्होंने बताया कि बाहर से चार संत आए थे और वे नीम के पेड़ के नीचे रहते थे। नौ पिंडियों के अलावा भगवान भोलेनाथ के शिवलिंग की स्थापना भी हुई थी। लोगों ने बताया कि सालो भर मंगलवार और शनिवार को भक्तों की भीड़ लगती है। जो लोग सच्चे मन से इस दरबार में आते हैं। उनकी मनोकामना पूर्ण होती है। जिले के अलावा पटना और नालंदा जिले के सीमावर्ती गांव के लोग भी मन्नत उतारने के लिए यहां आते हैं। शारदीय और चैती नवरात्र के दौरान यहां कलश स्थापित कर मां की पूजा होती है। शाम के समय प्रतिदिन भजन-कीर्तन का आयोजन होता है। सच्चा दरबार के नाम से यह मंदिर प्रसिद्ध है। लोगों ने बताया कि तत्कालीन डीएम संजय अग्रवाल जब इस मंदिर में पूजा के लिए आए तो सोइया घाट का भी निरीक्षण किया। जमीन के भीतर से जून माह में पानी गिरता देख वे भौचक रह गए। तत्कालीन डीएम ने सोइया घाट को विकसित करने के लिए पहल की। अब सोइया घाट का पक्कीकरण कर दिया गया है। यज्ञ में भी सोइया घाट से श्रद्धालु पानी ले जाते हैं।

फोटो-11 अक्टूबर जेहाना-12

कैप्शन-शहर के मल्लहचक देवी मंदिर में मां कात्यायिनी के आरती के लिए उपस्थित श्रद्धालु।

संबंधित खबरें