ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार हाजीपुरश्रम विभाग ने छापेमारी कर तीन बाल श्रमिक को कराया विमुक्त

श्रम विभाग ने छापेमारी कर तीन बाल श्रमिक को कराया विमुक्त

हाजीपुर। हिंदुस्तान प्रतिनिधि श्रम विभाग ने छापेमारी कर तीन बाल श्रमिक को कराया विमुक्तश्रम विभाग ने छापेमारी कर तीन बाल श्रमिक को कराया विमुक्तश्रम विभाग ने छापेमारी कर तीन बाल श्रमिक को कराया...

श्रम विभाग ने छापेमारी कर तीन बाल श्रमिक को कराया विमुक्त
हिन्दुस्तान टीम,हाजीपुरMon, 27 May 2024 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

हाजीपुर। हिंदुस्तान प्रतिनिधि
जिले में चल रहे बाल मजदूरी पर रोक लगाने को लेकर श्रम संसाधन विभाग के द्वारा हाजीपुर एवं महुआ में विभिन्न प्रतिष्ठानों में छापेमारी कर तीन बाल श्रमिकों को बरामद किया गया। श्रम संसाधन विभाग के द्वारा हाजीपुर सदर के मेसर्स चाय नाश्ता एण्ड मिठाई दुकान, महुआ रोड सुभई चौक के नियोजन मुरली राय, पिता भुलानी राय, महुआ रोड सुभइ चौक से हेल्पर के रूप में कार्यरत एक बाल श्रमिक को मुक्त कराया गया एवं महुआ से मेसर्स ताज स्टील महुआ बाजार के नियोजन मोहम्मद अशरफ के यहां से हेल्पर के रूप में दो बाल श्रमिकों को भी मुक्त कराया गया। बाल श्रमिकों से बात करने पर पता चला कि उन्हें नियम अनुसार न्यूनतम मजदूरी का भी भुगतान नहीं किया जा रहा है।

बाल एवं किशोर श्रम विनियमन एवं उन्मूलन अधिनियम 1986 तथा संशोधित 2006 के आलोक में बाल श्रमिक को विमुक्त कराया गया। इस संबंध में श्रम अधीक्षक शशि कुमार सक्सेना ने बताया कि उक्त तीन विमुक्त कराए गए बाल श्रमिकों को बाल कल्याण समिति को सौंप दिया गया है। उक्त नियोजकों के विरुद्ध प्राथमिक की दर्ज करने एवं अन्य अनुवर्ती कार्रवाई करने का निर्देश संबंधित क्षेत्र के श्रम परिवर्तन पदाधिकारी को दी गई है। नियोजन को 20,000 रु से लेकर₹50,000 रु तक का जुर्माना अथवा 6 माह का कारावास या दोनों का प्रावधान है। साथी एमसी मेहता बनाम तमिलनाडु सरकार के आलोक में सर्वोच्च न्यायालय के पारित आदेश के आलोक में नियोजन को प्रति बाल श्रमिक₹20,000 रु जिला में संधारित्र बाल श्रमिक पुनर्वास कोष के खाते में जमाना जमा करना होगा। योग्य बाल श्रमिकों को तत्काल आर्थिक सहायता के रूप में ₹3000 प्रति विमुक्त बाल श्रमिक के बैंक खाते में राशि अंतरण किया जाना है एवं मुख्यमंत्री राहत को से 25000 रुपए प्रति बाल श्रमिक की दर से संबंधित विमुक्त बाल श्रमिक के बैंक खाते में राशि उनके नाम से फिक्स डिपाजिट कराया जाना है। उक्त छापेमारी दलों में हाजीपुर सदर के श्रम प्रवर्तन अधिकारी सुबोध कुमार, बेलसर के श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी नीतीश कुमार, श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी गौतम प्रभात, श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी अलख निरंजन, श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी सोनाली प्रभा, सदर थाना हाजीपुर एवं महुआ थाना की पुलिस भी उपस्थित थी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।