ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार हाजीपुरमहाविद्यालय का नैक मूल्यांकन आवश्यक : डॉ अमृता

महाविद्यालय का नैक मूल्यांकन आवश्यक : डॉ अमृता

कोऑर्डिनेटर डॉ अमृता मजूमदार ने बताया महाविद्यालय का नैक ग्रेडेशन आवश्यक हैकोऑर्डिनेटर डॉ अमृता मजूमदार ने बताया महाविद्यालय का नैक ग्रेडेशन आवश्यक है महाविद्यालय में अच्छे शैक्षणिक वातावरण के...

महाविद्यालय का नैक मूल्यांकन आवश्यक : डॉ अमृता
हिन्दुस्तान टीम,हाजीपुरWed, 15 May 2024 12:00 AM
ऐप पर पढ़ें

हाजीपुर। संवाद सूत्र
नैक मूल्यांकन को लेकर बीपीएस महाविद्यालय देसरी में आईक्यूएसी की ओर से छात्र-छात्राओं के साथ शनिवार को बैठक आयोजित की गई। प्रभारी प्राचार्य डॉ राजीव कुमार के निर्देश पर आयोजित बैठक की अध्यक्षता आईक्यूएसी कॉर्डिनेटर डॉ अमृता मजूमदार एवं संचालन डॉ बबिता कुमारी ने की। बैठक में छात्र-छात्राओं से महाविद्यालय के विकास, शैक्षणिक व्यवस्था, छात्रों की समस्याओं पर विस्तार से चर्चा की गई। कोऑर्डिनेटर डॉ अमृता मजूमदार ने बताया महाविद्यालय का नैक ग्रेडेशन आवश्यक है।

नैक को लेकर प्रभारी प्राचार्य के नेतृत्व में महाविद्यालय का समुचित विकास किया जा रहा है। जो आवश्यक जरूरते है उन्हें प्राथमिकता के साथ पूरा करना हमारा लक्ष्य है। छात्र छात्राओं के लिए पेयजल की समुचित व्यवस्था, पुस्तकालय में छात्रों के लिए सुव्यवस्थित अध्ययन कक्ष, स्मार्ट रूम आदि व्यवस्थित किये गए है जिसका लाभ छात्र छात्रएं उठाएंगे। शिक्षकों में शोध-प्रवृत्ति का विकास, संगोष्ठी, विभागों की अलग-अलग व्यवस्था को लेकर भी चर्चा की गई। उन्होंने शिक्षकेतर कर्मियों और छात्रों के समन्वयन बनाने और विद्यार्थियों की परेशानी को दूर करने को लेकर भी की भी चर्चा की। डॉ नीलम कुमारी ने कहा कि महाविद्यालय में अच्छे शैक्षणिक वातावरण के निर्माण में छात्र छात्राओं की विशेष भूमिका होती है। उन्होंने छात्र छात्राओं से नियमित रूप वर्ग संचालन में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने की अपील की। इस दौरान अगर कोई भी समस्या आती है तो वे निःसंकोच प्राचार्य से मिलकर निदान कर सकते है। उन्होंने छात्रों को आश्वासन दिया कि महाविद्यालय में उन्हें बिहार की सबसे अच्छी शिक्षा और सहायता प्रणाली मिलेगी। बैठक में प्रधान लिपिक अमरनाथ, संजय कुमार सिन्हा, राम प्रवेश सिंह, राजाराम कुमार, शुशील गुप्ता आदि ने सक्रिय सहयोग किया।

छात्र मूल सार्वभौमिक मूल्यों को विकसित

डॉ नीलम ने कहा कि नैक मूल्यांकन होने के बाद छात्रों के मूल्यांकन कौशल विकास के कार्यक्षेत्र विकसित होंगे। डॉ विजय शंकर प्रसाद ने कहा कि यह आवश्यक है कि छात्र स्थानीय, राष्ट्रीय तथा सार्वभौमिक स्तरों पर सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक व पर्यावरणीय वास्तविकताओं के अनुरूप उपयुक्त मूल्यों को आत्मसात करें। उन्होंने सत्य और नीतिपरायणता जैसे मूल सार्वभौमिक मूल्यों को विकसित करने पर जोर दिया। कहा कि छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए महाविद्यालय लगातार प्रयास कर रहा है। इस दौरान छात्र छात्राओं द्वारा पूछे गए प्रश्नों का व संसयो का समाधान किया गया।

हाजीपुर - 10- मंगलवार को बैठक में उपस्थित छात्र-छात्राएं।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें