ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार हाजीपुरचुनाव खत्म, अब लग रहे जीत- हार के कयास

चुनाव खत्म, अब लग रहे जीत- हार के कयास

सोनपुर। संवाद सूत्रचुनाव खत्म, अब लग रहे हार के कयासचुनाव खत्म, अब लग रहे हार के कयासचुनाव खत्म, अब लग रहे हार के कयासचुनाव खत्म, अब लग रहे हार के कयासचुनाव खत्म, अब लग रहे हार के कयासचुनाव खत्म, अब...

चुनाव खत्म, अब लग रहे जीत- हार के कयास
हिन्दुस्तान टीम,हाजीपुरMon, 27 May 2024 11:45 PM
ऐप पर पढ़ें

सोनपुर। संवाद सूत्र
सारण संसदीय निर्वाचन क्षेत्र में लोक सभा चुनाव के लिए सोनपुर विधान सभा क्षेत्र में बीते 20 मई को आयोजित मतदान शांतिपूर्ण संपन्न हो गया। इस बार मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से विभिन्न संगठनों की ओर से चलाए गए जागरूकता अभियान के अलावा इस मुहिम में अनुमंडल प्रशासन की सक्रिय भूमिका के कारण मतदान के प्रतिशत में इजाफा हुआ। मतदान का प्रतिशत लगभग 60 रहा।

चुनाव समाप्त होने के बाद अब क्षेत्र में हार- जीत के कयास लगने शुरू हो गए हैं। मुकाबले के दलों के चुनाव कार्यालयों में कहां किसे कितने वोट पड़े, इसके आंकड़े जुटाए जा रहे हैं। बूथों से जुड़े कार्यकर्ता अपनी- अपनी रिपोर्ट पेश कर रहे हैं। किस मतदान केन्द्र पर कितने कितने मत पड़े इसकी गणना कर जीत- हार के दावे भी किए जा रहे हैं।

सोनपुर विधान सभा क्षेत्र में भी एनडीए और महागठबंधन खेमें में जीत- हार के आंकड़े लगाए जा रहे हैं। इनके चुनाव कार्यालयों में क्षेत्र के सोनपुर, दरियापुर, दिघवारा और परसा प्रखंडों के कार्यकर्ता अपने- अपने आंकड़ों के साथ जुटे और देर तक वोटों के बारे में गणना करते रहे। एनडीए खेमे के कार्यकर्ताओं का मानना है कि भाजपा प्रत्याशी राजीव प्रताप रूड़ी को इन प्रखंडों में काफी वोट पड़े हैं जबकि महागठबंधन के कार्यकर्ताओं का दावा है कि राजद प्रत्याशी डा. रोहिणी आचार्य को इस क्षेत्र में काफी वोट पड़े हैं। सोनपुर में बीते एक सप्ताह से प्रत्याशियों और उनके समर्थकों के बीच अटकलों का बाजार गर्म है। कुछ तो जीत की बाजी भी लगाने लगे हैं। मतदाताओं के बीच भी कौन जीतेगा और कौन हारेगा की चर्चा हो रही है। प्रबुद्ध मतदाता क्षेत्र में हुए शांतिपूर्ण मतदान को लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत मान रहे हैं।

मालूम हो कि इसके साथ ही सारण संसदीय निर्वाचन क्षेत्र से लोक सभा के सभी 14 प्रत्याशियों के भाग्य ईवीएम में बंद हो गए हैं। अब इंतजार 04 जून का है। आगामी 04 जून को मतगणना के बाद अटकलों का बाजार समाप्त हो जायेगा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।