DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सनातन धर्म आपसी प्रेम की भावना को करता है जागृत: विनय बाबा

उक्त बातें ईश्वरपट्टी में चल रहे मारुतिनंदन महायज्ञ में कथावाचक विनय बाबा ने उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म के मार्ग पर चलकर ही विश्व का कल्याण किया जा सकता है। कथा वाचिका अर्चना गर्ग ने कहा कि ब्रह्मांड में ईश्वर के बाद अगर कोई शक्ति है तो वह है मारुतिनन्दन महावीर हनुमान जी है। महावीर विक्रम बजरंगबली के समक्ष किसी भी प्रकार की मायावी शक्ति ठहर नहीं सकती हैं। हनुमानजी ने अहिरावण का वध कर प्रभु श्रीराम व लक्ष्मण को मुक्त कराया। जब हनुमानजी लंका का दहन कर रहे थे, तब उन्होंने अशोक वाटिका को इसलिए नहीं जलाया, क्योंकि वहां सीताजी को रखा गया था। दूसरी ओर उन्होंने विभीषण का भवन इसलिए नहीं जलाया, क्योंकि विभीषण के भवन के द्वार पर तुलसी का पौधा लगा था। मौके पर हरकेश बाबा भैरवनंद यादव, जटाशंकर यादव, देवनाथ गुप्ता, बाबूराम यादव व एसके सहनी आदि थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sanatan dharma makes sense of mutual love awake