DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जमीन की राजस्व वसूली में मनमानी का आरोप

स्थानीय अंचल क्षेत्र में जमीन का राजस्व प्रतिवर्ष अनियमित रूप से बढ़ाकर लिया जा रहा है। इससे किसानों में आक्रोश व्याप्त है। किसानों ने बताया कि एक ही जमीन का राजस्व किसी वर्ष दोगुना तो किसी वर्ष तीनगुना तो कभी चौगुना तक वसूल किया जा रहा है। इसकी वसूली का कोई दर निर्धारित नहीं है। इस संबंध में अंचल के तिवारी चकिया गांव के नरेंद्र नाथ तिवारी ने डीएम को आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा है कि अंचल के मुड़ाडीह गांव में स्थित उनकी 5 कट्ठा जमीन का राजस्व वर्ष 2015-16 में तीन रुपए लिया गया था। वहीं वर्ष 2016-17 में उसी जमीन की रसीद करीब 8 गुना बढ़ाकर 25 रुपए की रसीद काट दी गई। ठीक दो वर्ष बाद ही वर्ष 2018-19 में उसी जमीन की रसीद 100 रुपए काटी गई। ऐसा लग रहा है जमीन रेंट लेने का कोई दर निर्धारित नहीं है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:rajasw wasuli me manmani ka aarop