DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एनडीआरएफ की टीम ने गंडक नदी में शुरू किया तलाशी अभियान

एनडीआरएफ की टीम ने गंडक नदी में शुरू किया तलाशी अभियान

महम्मदपुर थाने के घोंघराहां गंडक नदी के घाट पर तेज धारा में बह गए युवक नरेश साह की तलाश में तीसरे दिन एनडीआरएफ की टीम जुट गई। टीम के दर्जनभर कर्मियों ने सुबह सात बजे से घोंघराहां घाट से ही मोटर वोट से नदी में तलाशी अभियान शुरू किया। अभियान का नेतृत्व खुद बैकुंठपुर के अंचल पदाधिकारी राणा रंजीत सिंह कर रहे हैं। घोंघराहां घाट से शुरू हुआ ऑपरेशन सारण जिले के डोरीगंज स्थित गंगा नदी तक चला । लेकिन दोपहर बाद तक एनडीआरएफ को टीम शव बरामद करने में सफलता नहीं मिली। सीओ ने बताया कि बंगरा घाट ,सतरघाट होते हुए मोटर बोट गंडक नदी के रास्ते सारण जिले के पन्नापुर , तरैयां ,अमनौर ,परसा ,गड़खा होते हुए डोरीगंज गंगा नदी तक पहुंची। वहां गंगा नदी में भी कुछ दूरी तक शव की तलाशी ली गई। करीब 80 किलोमीटर गंडक नदी में चले तलाशी अभियान के बाद भी तो शव नहीं मिलने से नरेश के परिजन नाउम्मीद दिखे। प्रशासन का कहना है कि जब तक नरेश का शव बरामद नहीं कर लिया जाता । तब तक गंडक नदी में सर्च ऑपरेशन जारी रहेगा। घोंघराहां घाट पर उमड़े ग्रामीण गंडक नदी में डूबे नरेश का शव बरामद करने आई एनडीआरएफ की टीम जब नदी में शुक्रवार की सुबह उतरी तो आसपास के सैकड़ों ग्रामीण नदी के घाट पर उमड़ पड़े। ग्रामीण से लेकर नरेश के परिजन एवं रिश्तेदारी के लोग भी गंडक नदी के घाट पर सुबह से शाम तक शव मिलने की उम्मीद में बैठे रहे। घोंघराहां घाट पर जिला पार्षद सुरेंद्र राय, आनंद शंकर प्रसाद उपस्थित थे। उधर गोताखोरों का अभियान शुक्रवार की शाम तक जारी रहा। क्या है मामला 31 मार्च को अपने दोस्तों के साथ गंडक नदी में नहाने गए घोंघराहां गांव के गगनदेव साह का तीस वर्षीय बेटा नरेश साह नदी की तेज धारा में बहकर लापता हो गया था। महम्मदपुर थाने में घटना को लेकर यूडी कांड दर्ज करने के लिए परिजनों ने आवेदन दिया है। थानेदार मुन्ना कुमार ने बताया कि नरेश का शव मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ndrf ki tim ne gandak nadi me suru kiya talashi abhiyan