DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार: पिछले 24 घंटे में 26 लोगों की मौत,  दरभंगा के नए इलाके में घुसा पानी

गोपालगंज को छोड़ अन्य जिलों में बाढ़ का प्रकोप धीरे-धीरे कम होने लगा है। लेकिन पानी उतरने के बाद बर्बादी का मंजर रुह कंपा देने वाला है। पानी तो धीरे-धीरे उतर रहा है लेकिन पीड़ितों को कहीं राहत नहीं दिख रही है। 

गोपालगंज के बैकुंठपुर के मूंजा गांव के समीप गंडक नदी का सारण मुख्य तटबंध 50 फुट में शुक्रवार की दोपहर टूट गया। इससे बाढ़ का पानी जगदीशपुर, मूंजा, बखरी, हेमू छपरा सहित सारण के चकियांर्, ंचतावनपुर,सतजोरा सहित कई गांवों में फैल गया है। गुरुवार को भी बंगरा गांव के समीप तटबंध टूट गया था जिससे कई गांवों में पानी प्रवेश कर गया था। शुक्रवार को बैकुंठपुर में डूब जाने से चार लोगों की मौत हो गई।  इन्हें मिलाकर सूबे में पिछले 24 घंटे में बाढ़ के कारण मृतकों की संख्या 26 हो गई है। 

बिहार और नेपाल के जलग्रहण क्षेत्रों में बारिश के कमजोर पड़ने कोसी,  सीमांचल, चंपारण और सीतामढ़ी में बाढ़ का कहर फिलहाल थम गया है। लेकिन सड़कें जहां-तहां कटी हैं इसलिए लोगों का कहीं आना-जाना मुश्किल है। पूर्णिया से बनमनखी तक रेल सेवा शुरू हो गई है लेकिन कटिहार रेलखंड अभी भी बाधित है। कहीं-कहीं राहत शिविरों से लोग लौटने लगे हैं तो कहीं शिविर में रह कर पानी निकलने का इंतजार कर रहे हैं। 

सुपौल में बाढ़ से क्षतिग्रस्त एनएच 327 ई जदिया ke समीप सड़क को ठीक कर शुक्रवार से आवागमन चालू कर दिया गया। मधेपुरा जिले के सर्वाधिक बाढ़ प्रभावित आलमनगर, चौसा के साथ ही अन्य प्रखंडों के में राहत कार्य तेज कर दिया गया है। पूर्णिया में सबसे ज्यादा प्रभावित बायसी, बैसा, अमौर और डगरुआ प्रखंडों के सैकड़ों गांवों में पानी घटने लगा है। पूर्णिया सहरसा को जोड़ने वाली मुख्य सड़क एनएच 107 पर पानी का दबाब कम हो गया है। अररिया शहर और प्रखंड क्षेत्रों से भी पानी निकल गया है लेकिन स्थिति अब भी असामान्य है। 

चंपारण व सीतामढ़ी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पानी कम हो रहा है, लेकिन बूढ़ी गंडक, बागमती में उफान से मुजफ्फरपुर और समस्तीपुर में बाढ़ की स्थिति गंभीर होती जा रही है। पूर्वी चंपारण में मधुबनी घाट के पास शुक्रवार को बाढ़ से सड़क ध्वस्त हो गयी। इससे मोतिहारी-पकड़ीदयाल का सड़क संपर्क भंग हो गया। मधुबनी-सीतामढ़ी, शिवहर-सीतामढ़ी व शिवहर-मोतिहारी का सड़क संपर्क अब भी बाधित है। दरभंगा के घनश्यामपुर में तटबंध टूटने से समस्तीपुर र्के ंसघिया प्रखंड में पानी फैलने लगा है।

राहत के लिए मारपीट
अररिया में राहत के लिए परेशान लोगों ने शहर में सीओ और बीडीओ के साथ शुक्रवार को मारपीट भी की। जगह-जगह रोषपूर्ण प्रदर्शन किया जा रहा है।  जिले में बाढ़ से 30 लोगों के मरने की पुष्टि की है जबकि 60 से अधिक लोगों की मौत हुई बताई जा रही है। किशनगंज जिले में बाढ़ पीड़ित अब अपने-अपने घरों को लौटने लगे हैं। कटिहार में भी पानी के घटने से स्थिति धीरे-धीरे सुधर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Flood in bihar