ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News बिहार गोपालगंजसुबह से आसमान से बरसती रही आग,शाम को छाए बादल

सुबह से आसमान से बरसती रही आग,शाम को छाए बादल

बादल फोटो- 12- शहर के हजियापुर रोड में सोमवार की दोपहर तीखी धूप के बीच गुजरते राहगीर फोटो- 13- दिन भर की भीषण गर्मी के बाद सोमवार की शाम को शहर के आसामन में छाए बादल गोपालगंज,वरीय संवाददाता। जिले...

सुबह से आसमान से बरसती रही आग,शाम को छाए बादल
हिन्दुस्तान टीम,गोपालगंजMon, 27 May 2024 11:30 PM
ऐप पर पढ़ें

गोपालगंज,वरीय संवाददाता। जिले में नौतपा के तीसरे दिन सोमवार की सुबह से ही भीषण गर्मी व आग बरसाती धूप से जनजीवन अस्त-व्यस्त रहा। हालांकि शाम को मौसम बदल गया। आसमान बादलों से ढंक गया। इसके पूर्व तापमान बढ़ने के साथ तेज उत्तर पूर्व से चली हवा से लोग झुलसते रहे। करीब 14 किलोमीटर की रफ्तार से गर्म हवा चली। सुबह में सूर्य निकलते ही धूप असहज रही। अधिकतम तापमान 41 डिग्री सेल्सियस रहा। जबकि न्यूनतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दिन चढ़ने के साथ चौक बाजारों से लेकर खेत-खलिहानों तक वीरानगी का आलम दिखा। तपती धूप और गर्म हवा से स्कूली बच्चे बेहाल दिखे। दोपहर आग बरसाती धूप के बीच करीब 11- 12 के बीच में बच्चे स्कूलों से निकले । अधिकांश अभिभावक छाते की छांव में बच्चों को लेकर घर गए। मौसम विज्ञान केन्द,पटना के अनुसार रेलम चक्रवात के प्रभाव के कारण गोपालगंज सहित उत्तर बिहार के जिलों के मौसम में बदलाव के साथ कई जगहों पर बारिश होने के आसार हैं।

आम व लीची के फल हो रहे बर्बाद

सामान्य से तीन-चार डिग्री अधिक तापमान व बारिश नहीं होने से आम व लीची के फल बर्बाद हो रहे हैं। जिले के बरौली,बैकुंठपुर,सिधवलिया,गोपालगंज सदर सहित अन्य इलाकों में गर्मी व धूप से लीची के फल पौधे में ही फट रहे हैं। आम के फल भी गर्मी में काले पड़ कर पेड़ से टूट कर गिर रहे हैं। इधर,लत्तर वाली सब्जियों की फसलें सूखने से किसान परेशान हैं। पौधे पर तना व पत्ता छेदक कीड़े के प्रकोप से किसान परेशान है। पंचदेवरी व बैकुंठपुर में गरमा प्याज की फसल भी प्रभावित हो रही है।

मौसम जनित रोगों के बढ़े मरीज

भीषण गर्मी व तेज धूप से एक बार फिर बड़ी संख्या में लोग बीमार पड़ रहे हैं। सोमवार को करीब साढ़े आठ सौ मरीजों का सदर अस्पताल की ओपीडी में इलाज किया गया। जिले के पीएचसी व सीएचसी में भी बड़ी संख्या में गर्मीजनित रोगों के मरीज पहुंचे। अधिकतर मरीज डायरिया,खांसी,दम फूलने व बुखार आदि के थे। डॉक्टरों ने बताया कि अत्यधिक तापमान से शरीर का तापमान अधिक हो जाता है। जिससे अचानक बैचेनी बढ़ जाती हैं। उल्टी ,पेट दर्द के साथ कई परेशानियां होने लगती हैं। सिरदर्द, बेहोशी या दौरे पड़ने लगते हैं। सांस और दिल की धड़कनें तेज हो जाती हैं। डॉक्टर शशि रंजन ने बताया कि गर्मी से प्रभावित मरीजों को ठंडा पानी,ओआरएस के घोल व जूस देना जरूरी है। ताकि डिहाइड्रेशन को नियंत्रित किया जा सके। चिंताजनक लक्षण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।