DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भाईयों को राखी बांधकर बहनों ने लिया जिंदगीभर रक्षा करने का वादा

default image

जिलेभर में गुरुवार को हर्षोल्लास,धूमधाम व श्रद्धा के साथ रक्षाबंधन सह राखी का त्योहार मनाया गया। रक्षाबंधन को सबसे अधिक उत्साह बच्चों में देखने को मिला। सुबह से लेकर शाम तक बहनें अपने भाईयों की कलाई पर प्यार,अटूट बंधन व रक्षा का डोर बांधा। इस मौके पर भाईयों ने संकल्प लिया कि बहन की जिंदगीभर रक्षा करेंगे। साथ ही भाईयों ने राखी बंधवाने के बाद बहनों को उपहार भी दिया। इससे पहले रक्षाबंधन को लेकर सबसे पहले बहनों ने घर व मंदिरों में पूजा-पाठ किया। इसके बाद राखी बांधने का दौरान शुरू हुआ। बहनों ने भाईयों के माथे पर हल्दी-चंदन लगाया और दीये से उनकी आरती भी उतारी। फिर भाईयों की कलाईयों पर राखियां बांधी। इस दौरान बड़ी बहनों ने अपने छोटे भाई को आशीर्वाद दिया और छोटी बहनों को बड़े भाईयों ने शुभाशीष दिया। वहीं गुरुवार को रक्षाबंधन पर दिनभर शुभ मुहूर्त रहा। इससे बहनों को भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिए मुहूर्त का इंतजार नहीं करना पड़ा। सुबह 5.40 बजे से लेकर अपराह्न के 6.01 बजे तक राखी बांधने का मुहूर्त था। इस दौरान 12.58 घंटे तक लगातार राखी बांधने का दौर चला। पंडित ताराकांत झा ने बताया कि चंद्र प्रधान श्रवण नक्षत्र में स्वतंत्रता दिवस व रक्षाबंधन का संयोग एक साथ बना था। चंद्र प्रधान श्रवण नक्षत्र का संयोग बहुत खास रहा। सुबह से ही सिद्धि योग बना, जिसके चलते पर्व की महत्ता और बढ़ गयी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Brothers tied a rakhi and sisters took a promise to protect their lives