DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो सौ बैंकों व एटीएम में लटके ताले, 65 करोड़ का कारोबार प्रभावित

दो सौ बैंकों व एटीएम में लटके ताले, 65 करोड़ का कारोबार प्रभावित

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के आह्वान पर ग्यारहवें वेतन समझौते की विफलता के खिलाफ जिले के सभी कमर्शियल बैंकों की दो दिवसीय हड़ताल 30 मई से शुरू हो गई। हड़ताल का नैतिक समर्थन करते हुए ग्रामीण बैंकों व कॉऑपरेटिव बैंकों के कर्मियों ने भी कुछ देर के लिए कामकाज ठप कर दिया। ऐसे में जिले के करीब दौ सौ बैंकों व एटीएम में ताले लटक गए। इससे 65 करोड़ से अधिक का कारोबार प्रभावित हुआ। वहीं, रुपए के लिए बैंक ग्राहक परेशान रहे। हड़ताल के दौरान मौनिया चौक स्थित भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा के पास जुटे बैंककर्मियों ने धरना-प्रदर्शन कर अपनी मांगों के समर्थन आवाज बुलंद की। स्टेट बैंक मुख्य शाखा के क्षेत्रीय सचिव सुशील कुमार श्रीवास्तव,केनरा बैंक के शाखा सचिव प्रमेन्द्र कुमार समेत अन्य ने बताया कि हड़ताल 31 मई को भी जारी रहेगी। वहीं, जिला यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स के संयोजक सह ऑल इंडिया रिजनल रूरल बैंक इंप्लाइज व ऑफिसर्स एसोसिएशन के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुशील कुमार श्रीवास्तव ने कहा कि बैंक यूनियन्स की मांगों में वेतन में पर्याप्त वृद्धि, सेवा शर्तों में बेहतरी और वेतन समझौते में स्केल सात तक के अधिकारियों को शामिल करने की मांगें भी शामिल हैं। उनका कहना था कि बैंक प्रबंधन में देश की सबसे बड़ी संस्था भारतीय बैंक संघ ने पिछली वार्ता में दो प्रतिशत वृद्धि का प्रस्ताव दिया था, जिसे यूनाइटेड बैंक फोरम ने खारिज कर दिया। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स की मांग है कि पिछले वेतन समझौते की तर्ज पर 15 प्रतिशत से अधिक वेतन वृद्धि की जाए। धरना-प्रदर्शन में प्रमेन्द्र कुमार, एसके श्रीवास्तव अनीष, राहुल कुमार, संजीव शुक्ला, रंजीत कुमार, अजय सिंह, बीएन तिवारी, बीएन पांडेय, पवेन्द्र कुमार, किशोर कुमार, अरुणेश पांडेय, शशि कुमार, संजीव कुमार, विनोद कुमार, अरुण मंडल समेत कई बैंककर्मी भी शामिल थे।------------------------------------------पैसे के लिए भटकते रहे बैंक ग्राहकबैंकों की हड़ताल व अधिसंख्य एटीएम में ताले लटके रहने के कारण पैसे के लिए बैंक ग्राहक शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों में भटकते रहे। वहीं, व्यवसायी भी पूरे दिन परेशान रहे। शहर के कलेक्ट्रेट रोड में मिले रामेश्वर प्रसाद, उत्तम सिंह, कमलावती देवी, रूपेश कुमार समेत कई बैंक ग्राहकों ने बताया कि बैंकों में ताले लटके हैं। वहीं, अधिकतर एटीएम भी बंद हैं। पैसे नहीं मिलने से काफी परेशानी है। घोष मोड़ पर मिले राजू प्रसाद, नवल किशोर व कैलाश प्रसाद का कहना था कि अचानक पैसे की जरूरत आन पड़ी। यहां आने पर पता चला कि बैंक बंद है। एटीएम पर गए तो वहां भी रुपए नहीं मिले। बताया जा रहा है कि बैंक कल भी बंद रहेंगे। समझ में नहीं आ रहा कि कहां से पैसे का इंतजाम करें।--------------------------------------बैंककर्मियों की मुख्य मांगों पर एक नजर:- बैंककर्मियों के वेतन में पर्याप्त वृद्धि व उनकी सेवा की शर्तों में बेहतरी- वेतन समझौते में स्केल सात तक के अधिकारियों को किया जाए शामिल- पिछले वेतन समझौते की तर्ज पर 15 प्रतिशत से अधिक वेतन वृद्धि की जाए----------------------------इंफो:01 सौ पचास एटीएम हैं पूरे जिले में संचालित02 सौ के करीब सरकारी व निजी बैंक हैं जिले में---------------------------वर्जनबैंकों की हड़ताल से कारोबार प्रभावित हुआ है। निजी व ग्रामीण बैंक हड़ताल पर नहीं हैं। बैंककर्मी दो दिनों की हड़ताल पर हैं। राजन कुमार,एलडीएम

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:bank karmiyo ka do din ka hartal