अगली स्टोरी

गोपालगंज

देसी आदमियों की खासियत

संता बिना पानी मिलाये दारू पी रहा था

सोहन– क्या बात है पाजी आपने

पानी भी नहीं मिलाया,

संता – अबे पागल हम देसी आदमी हैं

इतना पानी तो हमारे मुंह में दारू देखकर ही आ जाता है