DA Image
24 नवंबर, 2020|7:07|IST

अगली स्टोरी

कौवल व पोखराहा के ग्रामीणों ने अपने गांव से बाहर जाने वालों पर लगाया रोक

default image

इमामगंज प्रखण्ड में अंचलाधिकारी व पुलिस पदाधिकारियों को कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद भी इमामगंज सीएचसी में स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कोविड 19 की जांच के लिए कोई बेहतर व्यवस्था नहीं किए जाने से स्थानीय प्रखण्ड के ग्रामीण सरकार की विधि व्यवस्था से नाराज होकर स्वयं अपनी जान बचाने के लिए स्थानीय स्तर से उपाय करने में जुटे हैं। कोविड 19 के कड़ी को तोड़ने के लिए इमामगंज प्रखण्ड के कौवल और पोखराहा गांव के ग्रामीणों ने गांव के मुख्य सड़क को बांस बल्ले से बैरिकेडिंग कर बाहर से किसी भी व्यक्ति को गांव में प्रवेश करने पर रोक लगा दिया गया है। इस सम्बंध में ग्रामीण बताते हैं कि मेरे गांव में ओझा गुणी का काम चलता है। इससे हमलोगों का भय बना हुआ है। उनका मानना है कि बाहर से आने वाले लोग कोरोना संक्रमित भी ओझा गुणी कराने न आ जाए इसके भय से हमलोगों ने गांव में प्रवेश करने पर पूरी तरह रोक लगा दिया गया है। इसके लिए गांव के सभी रास्ते को बंद कर दिया गया है। गांव के ग्रामीणों को आने-जाने के लिए प्रतिबंधित रास्ते से हटकर छोटी रास्ता बनाया गया है। जिस रास्ते से सिर्फ गांव के लोग आने-जाने का काम करेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Villagers of Kowal and Pokharaha ban those going out of their village