ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ बिहार गयाबंधुआ स्टेशन पर रैक प्वाइंट तक जाने को सड़क नहीं, शेड के बिना परेशानी

बंधुआ स्टेशन पर रैक प्वाइंट तक जाने को सड़क नहीं, शेड के बिना परेशानी

बंधुआ स्टेशन पर रैक प्वाइंट तक जाने को सड़क नहीं, शेड के बिना परेशानी बंधुआ स्टेशन पर रैक प्वाइंट तक जाने को सड़क नहीं, शेड के बिना...

बंधुआ स्टेशन पर रैक प्वाइंट तक जाने को सड़क नहीं, शेड के बिना परेशानी
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,गयाFri, 21 Jan 2022 10:00 PM

बिना शेड-सड़क का बना बंधुआ स्टेशन पर रैक प्वाइंट, बढ़ी परेशानी

दिसम्बर से जनवरी के बीच बंधुआ स्टेशन रैक प्वाइंट पर एफसीआई का नौ रैक आया अनाज

गया। हिन्दुस्तान संवाददाता

गया-कोडरमा रेल सेक्शन के बंधुआ स्टेशन(धनबाद रेल मंडल क्षेत्र) पर शेड-प्लेटफार्म और सड़क सुविधा उपलब्ध कराए बिना ही रैक प्वाइंट को चालू कर दिया गया है। इसके कारण अनाज अनलोड करने व ट्रक से दूसरे स्थान ले जाने के लिए स्टेशन क्षेत्र से बाहर निकलने में परेशानी बढ़ी हुई है। पिछले दिसम्बर से बंधुआ स्टेशन पर रेलवे द्वारा रैक प्वाइंट चालू किया गया है। लेकिन यहां अभी तक शेड,प्लेटफार्म और पक्की सड़क नहीं बना है। इसके कारण ट्रकों को आने-जाने में परेशानी होती है। सही सड़क नहीं रहने से ट्रकों को आने-जाने में परेशान होना पड़ रहा है।

*डीडीयू-धनबाद रेल मंडल के सीमा क्षेत्र है बंधुआ स्टेशन

पूर्व मध्य रेलवे के डीडीयू व धनबाद रेल मंडल के सीमा क्षेत्र (गया जिला) में बंधुआ स्टेशन है। यहां से सरकारी अनाज आयात के लिए रैक प्वाइंट की सुविधा दी गई है। लेकिन रैक प्वाइंट के तहत अनाज को बरसात से सुरक्षा देने के लिए शेड की सुविधा नहीं ढ़ी गई। साथ ही सुरक्षा के लिए किसी प्रकार से बैरिकेटिंग की व्यवस्था भी नहीं दी गई है।

30 दिनों में 9 रैक एफसीआई का आया अनाज

बंधुआ स्टेशन के रैक प्वाइंट पर दिसम्बर2021 से जनवरी 2022 माह के बीच 30 दिनों में 9 रैक एफसीआई का अनाज लाया गया है। 9 रैक में करीब 30 हजार टन से ज्यादा अनाज को बंधुआ स्टेशन से मानपुर वेयर हाउस में ट्रकों द्वारा लाकर रखा गया है। रेलवे द्वारा बंधुआ रैक प्वाइंट पर सुविधा उपलब्ध नहीं कराए जाने से परेशानी बनी हुई है। शेड का अभाव रहने से बरसात में अनाज को भींगने की संभावना बनी रहती है। जबकि भाड़े के रूप में रेलवे को अच्छे राजस्व का लाभ हो रहा है। इसके बावजूद सुविधा नहीं बढ़ायी जा रही है।

epaper