DA Image
1 जुलाई, 2020|5:17|IST

अगली स्टोरी

बोधगया के क्वारंटाइन सेंटर में अप्रवासियों की सुविधाओं का रखें ख्याल

default image

मगध यूनिवर्सिटी परिसर व मॉडल प्लस टू हाई स्कूल में ठहरे अप्रवासी बिहारियों द्वारा क्वारंटाइन सेंटर पर समय से नास्ता व भोजन नहीं मिलने सहित अन्य मूलभूत सुविधाएं नहीं रहने को ले आये दिन हंगामा किया जा रहा था। इन समस्याओं के समाधान के लिए बुधवार को सदर एसडीओ इंद्रवीर कुमार ने बोधगया थाना परिसर में अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान किसी अप्रवासी को कोई असुविधा नहीं हो, इसका ख्याल रखने का सभी को निर्देश दिया गया। नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी शशिभूषण प्रसाद ने बताया कि जिस क्वारंटाइन सेंटर पर थोड़ी-बहुत समस्या हुई है। उसके समाधान पर काम शुरू कर दिया गया है। मंगलवार को समय से पानी उपलब्ध नहीं होने के कारण खाना बनने में थोड़ा विलंब हुआ था। सभी सेंटरों पर समरसेबल बोरिंग भी चालू है। साथ ही पीएचईडी विभाग को अतिरिक्त पानी के टैंकर बढाने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा जरूरत पड़ने पर चापाकल लगाने पर भी चर्चा हुई है। किसी भी हाल में अप्रवासियों को कोई असुविधा नहीं होने दिया जायेगा। बैठक के बाद अधिकारियों ने निगमा मोनास्ट्री व एमयू परिसर के क्वारंटाइन सेंटर पहुंच कर समस्याओं को जाना। उन्होंने बताया कि वंदे भारत मिशन के तहत आने वाले सभी अप्रवासी बिहारियों के लिए दो तरह की व्यवस्था है। इसमें पेड व्यवस्था के तहत वे निजी होटल व गेस्ट हाउस रुक सकते हैं। लेकिन इसमें रहने व खाने का खर्च उन्हें स्वंय देना है। इसके अलावा निःशुल्क व्यवस्था में प्रशासन द्वारा बनाये गए विभिन्न सात क्वारंटाइन सेंटर पर खाने-पीने व रहने की पर्याप्त व्यवस्था है। फिलहाल निगमा मोनास्ट्री, एमयू परिसर में परीक्षा भवन व स्टाफ क्वार्टर सहित विभिन्न सात क्वारंटाइन सेंटरों पर करीब तीन हजार अप्रवासी ठहरे हुए हैं। बैठक में बीडीओ विनोद कुमार, थानाध्यक्ष मोहन प्रसाद सिंह, बिजली विभाग के असिस्टेंट इंजीनियर राकेश रंजन सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Take care of the facilities of immigrants in Quarantine Center of Bodh Gaya